Skip to main content

अल-जाथीया आयत ११ | Al-Jathiya 45:11

This
هَٰذَا
ये है
(is) guidance
هُدًىۖ
हिदायत
And those who
وَٱلَّذِينَ
और वो जिन्होंने
disbelieve
كَفَرُوا۟
इन्कार किया
in (the) Verses
بِـَٔايَٰتِ
आयात का
(of) their Lord
رَبِّهِمْ
अपने रब की
for them
لَهُمْ
उनके लिए
(is) a punishment
عَذَابٌ
अज़ाब है
of
مِّن
बदतरीन क़िस्म का
filth
رِّجْزٍ
बदतरीन क़िस्म का
painful
أَلِيمٌ
दर्दनाक

Hatha hudan waallatheena kafaroo biayati rabbihim lahum 'athabun min rijzin aleemin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यह सर्वथा मार्गदर्शन है। और जिन लोगों ने अपने रब की आयतों को इनकार किया, उनके लिए हिला देनेवाली दुखद यातना है

English Sahih:

This [Quran] is guidance. And those who have disbelieved in the verses of their Lord will have a painful punishment of foul nature.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ये (क़ुरान) है और जिन लोगों ने अपने परवरदिगार की आयतों से इन्कार किया उनके लिए सख्त किस्म का दर्दनाक अज़ाब होगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

ये (क़ुर्आन) मार्गदर्शन है तथा जिन्होंने कुफ़्र किया अपने पालनहार की आयतों के साथ, तो उन्हीं के लिए यातना है, दुःखदायी यातना।