Skip to main content

सूरह अल-अह्काफ़ आयत २६ | Al-Ahqaf 46:26

And certainly
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
We had established them
مَكَّنَّٰهُمْ
क़ुदरत दी हमने उन्हें
in what
فِيمَآ
उसमें जो
not
إِن
नहीं
We have established you
مَّكَّنَّٰكُمْ
क़ुदरत दी थी हमने तुम्हें
in it
فِيهِ
उसमें
and We made
وَجَعَلْنَا
और बनाए हमने
for them
لَهُمْ
उनके लिए
hearing
سَمْعًا
कान
and vision
وَأَبْصَٰرًا
और आँखें
and hearts
وَأَفْـِٔدَةً
और दिल
But not
فَمَآ
तो ना
availed
أَغْنَىٰ
काम आए
them
عَنْهُمْ
उन्हें
their hearing
سَمْعُهُمْ
कान उनके
and not
وَلَآ
और ना
their vision
أَبْصَٰرُهُمْ
आँखें उनकी
and not
وَلَآ
और ना
their hearts
أَفْـِٔدَتُهُم
दिल उनके
any
مِّن
कुछ भी
thing
شَىْءٍ
कुछ भी
when
إِذْ
जब
they were
كَانُوا۟
थे वो
rejecting
يَجْحَدُونَ
वो इन्कार करते
(the) Signs
بِـَٔايَٰتِ
आयात का
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
and enveloped
وَحَاقَ
और घेर लिया
them
بِهِم
उन्हें
what
مَّا
उसने जो
they used (to)
كَانُوا۟
थे वो
[at it]
بِهِۦ
उसका
ridicule
يَسْتَهْزِءُونَ
वो मज़ाक़ उड़ाते

Walaqad makkannahum feema in makkannakum feehi waja'alna lahum sam'an waabsaran waafidatan fama aghna 'anhum sam'uhum wala absaruhum wala afidatuhum min shayin ith kanoo yajhadoona biayati Allahi wahaqa bihim ma kanoo bihi yastahzioona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

हमने उन्हें उन चीज़ों में जमाव और सामर्थ्य प्रदान की थी, जिनमें तुम्हें जमाव और सामर्थ्य नहीं प्रदान की। औऱ हमने उन्हें कान, आँखें और दिल दिए थे। किन्तु न तो उनके कान उनके कुछ काम आए औऱ न उनकी आँखे और न उनके दिल ही। क्योंकि वे अल्लाह की आयतों का इनकार करते थे और जिस चीज़ की वे हँसी उड़ाते थे, उसी ने उन्हें आ घेरा

English Sahih:

And We had certainly established them in such as We have not established you, and We made for them hearing and vision and hearts [i.e., intellect]. But their hearing and vision and hearts availed them not from anything [of the punishment] when they were [continually] rejecting the signs of Allah; and they were enveloped by what they used to ridicule.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और हमने उनको ऐसे कामों में मक़दूर दिये थे जिनमें तुम्हें (कुछ भी) मक़दूर नहीं दिया और उन्हें कान और ऑंख और दिल (सब कुछ दिए थे) तो चूँकि वह लोग ख़ुदा की आयतों से इन्कार करने लगे तो न उनके कान ही कुछ काम आए और न उनकी ऑंखें और न उनके दिल और जिस (अज़ाब) की ये लोग हँसी उड़ाया करते थे उसने उनको हर तरफ से घेर लिया

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा हमने उन्हें वह शक्ति दी थी, जो इन्हें[1] नहीं दी है। हमने बनाये थे उनके कान, आँखें और दिल, तो नहीं काम आये उनके कान, उनकी आँखें तथा न उनके दिल कुछ भी। क्योंकि वे इन्कार करते थे अल्लाह की आयतों का तथा घेर लिया उन्हें उसने, जिसका वे उपहास कर रहे थे।