Skip to main content

मुहम्मद आयत २८ | Muhammad 47:28

That
ذَٰلِكَ
ये
(is) because they
بِأَنَّهُمُ
बवजह उसके कि वो
followed
ٱتَّبَعُوا۟
उन्होंने पैरवी की
what
مَآ
उसकी जिसने
angered
أَسْخَطَ
ग़ुस्सा दिलाया
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह को
and hated
وَكَرِهُوا۟
और उन्होंने नापसंद किया
His pleasure
رِضْوَٰنَهُۥ
उसकी रज़ा को
so He made worthless
فَأَحْبَطَ
तो उसने ज़ाया कर दिए
their deeds
أَعْمَٰلَهُمْ
आमाल उनके

Thalika biannahumu ittaba'oo ma askhata Allaha wakarihoo ridwanahu faahbata a'malahum

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यह इसलिए कि उन्होंने उस चीज़ का अनुसरण किया जो अल्लाह को अप्रसन्न करनेवाली थी और उन्होंने उसकी ख़ुशी को नापसन्द किया तो उसने उनके कर्मों को अकारथ कर दिया

English Sahih:

That is because they followed what angered Allah and disliked [what earns] His pleasure, so He rendered worthless their deeds.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ये इस सबब से कि जिस चीज़ों से ख़ुदा नाख़ुश है उसकी तो ये लोग पैरवी करते हैं और जिसमें ख़ुदा की ख़ुशी है उससे बेज़ार हैं तो ख़ुदा ने भी उनकी कारस्तानियों को अकारत कर दिया

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

ये इसलिए कि वे चले उस राह पर, जिसने अप्रसन्न कर दिया अल्लाह को तथा उन्होंने बुरा माना उसकी प्रसन्नता को, तो उसने व्यर्थ कर दिया उनके कर्मों को।[1]