Skip to main content

अल-हुजरात आयत १८ | Al-Hujurat 49:18

Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
knows
يَعْلَمُ
वो जानता है
(the) unseen
غَيْبَ
ग़ैब
(of) the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
and the earth
وَٱلْأَرْضِۚ
और ज़मीन के
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) All-Seer
بَصِيرٌۢ
ख़ूब जानने वाला है
of what
بِمَا
उसे जो
you do"
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो

Inna Allaha ya'lamu ghayba alssamawati waalardi waAllahu baseerun bima ta'maloona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

'निश्चय ही अल्लाह आकाशों और धरती के अदृष्ट को जानता है। और अल्लाह देख रहा है जो कुछ तुम करते हो।'

English Sahih:

Indeed, Allah knows the unseen [aspects] of the heavens and the earth. And Allah is Seeing of what you do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

बेशक ख़ुदा तो सारे आसमानों और ज़मीन की छिपी हुई बातों को जानता है और जो तुम करते हो ख़ुदा उसे देख रहा है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

निःसंदेह, अल्लाह ही जानता है आकाशों तथा धरती के ग़ैब (छुपी बात) को तथा अल्लाह देख रहा है जो कुछ तुम कर रहे हो।