Skip to main content

अन-नज्म आयत १७ | An-Najm 53:17

Not
مَا
ना
swerved
زَاغَ
कजी की
the sight
ٱلْبَصَرُ
निगाह ने
and not
وَمَا
और ना
it transgressed
طَغَىٰ
वो हद से बढ़ी

Ma zagha albasaru wama tagha

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

निगाह न तो टेढ़ी हुइ और न हद से आगे बढ़ी

English Sahih:

The sight [of the Prophet (^)] did not swerve, nor did it transgress [its limit].

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(उस वक्त भी) उनकी ऑंख न तो और तरफ़ माएल हुई और न हद से आगे बढ़ी

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

न तो निगाह चुंधियाई और न सीमा से आगे हुई।