Skip to main content

अल-हष्र आयत ५ | Al-Hashr 59:5

Whatever
مَا
जो भी
you cut down
قَطَعْتُم
काटा तुमने
of
مِّن
खजूर का दरख़्त
(the) palm-trees
لِّينَةٍ
खजूर का दरख़्त
or
أَوْ
या
you left them
تَرَكْتُمُوهَا
छोड़ दिया तुमने उसे
standing
قَآئِمَةً
खड़ा
on
عَلَىٰٓ
उसकी जड़ों पर
their roots
أُصُولِهَا
उसकी जड़ों पर
it (was) by the permission
فَبِإِذْنِ
तो अल्लाह के इज़्न से था
(of) Allah
ٱللَّهِ
तो अल्लाह के इज़्न से था
and that He may disgrace
وَلِيُخْزِىَ
और ताकि वो रुस्वा करे
the defiantly disobedient
ٱلْفَٰسِقِينَ
फ़ासिक़ों को

Ma qata'tum min leenatin aw taraktumooha qaimatan 'ala osooliha fabiithni Allahi waliyukhziya alfasiqeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

तुमने खजूर के जो वृक्ष काटे या उन्हें उनकी जड़ों पर खड़ा छोड़ दिया तो यह अल्लाह ही की अनुज्ञा से हुआ (ताकि ईमानवालों के लिए आसानी पैदा करे) और इसलिए कि वह अवज्ञाकारियों को रुसवा करे

English Sahih:

Whatever you have cut down of [their] palm trees or left standing on their trunks – it was by permission of Allah and so He would disgrace the defiantly disobedient.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(मोमिनों) खजूर का दरख्त जो तुमने काट डाला या जूँ का तँ से उनकी जड़ों पर खड़ा रहने दिया तो ख़ुदा ही के हुक्म से और मतलब ये था कि वह नाफरमानों को रूसवा करे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(हे मुसलमानो!) तुमने नहीं काटा[1] कोई खजूर का वृक्ष और न छोड़ा उसे खड़ा अपने तने पर, परन्तु ये सब अल्लाह के आदेश से हुआ और ताकि वह अपमानित करे पथभ्रष्टों को।