Skip to main content

अल-हष्र आयत ९ | Al-Hashr 59:9

And those who
وَٱلَّذِينَ
और(अंसार के लिए भी)जिन्होंने
settled
تَبَوَّءُو
जगह बनाई
(in) the home
ٱلدَّارَ
उस घर (मदीना) में
and (accepted) faith
وَٱلْإِيمَٰنَ
और ईमान में
from
مِن
उनसे पहले
before them
قَبْلِهِمْ
उनसे पहले
love
يُحِبُّونَ
वो मुहब्बत रखते हैं
(those) who
مَنْ
उससे जो
emigrated
هَاجَرَ
हिजरत करे
to them
إِلَيْهِمْ
तरफ़ उनके
and not
وَلَا
और नहीं
they find
يَجِدُونَ
वो पाते
in
فِى
अपने सीनों में
their breasts
صُدُورِهِمْ
अपने सीनों में
any want
حَاجَةً
कोई हाजत
of what
مِّمَّآ
उस चीज़ की जो
they were given
أُوتُوا۟
वो दिए गए
but prefer
وَيُؤْثِرُونَ
और वो तरजीह देते हैं
over
عَلَىٰٓ
अपने नफ़्सों पर
themselves
أَنفُسِهِمْ
अपने नफ़्सों पर
even though
وَلَوْ
और अगरचे
was
كَانَ
हो
with them
بِهِمْ
उन्हें
poverty
خَصَاصَةٌۚ
सख़्त हाजत
And whoever
وَمَن
और जो कोई
is saved
يُوقَ
बचा लिया गया
(from) stinginess
شُحَّ
बुख़्ल से
(of) his soul
نَفْسِهِۦ
अपने नफ़्स के
then those
فَأُو۟لَٰٓئِكَ
तो यही लोग हैं
[they]
هُمُ
वो
(are) the successful ones
ٱلْمُفْلِحُونَ
जो फ़लाह पाने वाले हैं

Waallatheena tabawwaoo alddara waaleemana min qablihim yuhibboona man hajara ilayhim wala yajidoona fee sudoorihim hajatan mimma ootoo wayuthiroona 'ala anfusihim walaw kana bihim khasasatun waman yooqa shuhha nafsihi faolaika humu almuflihoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और उनके लिए जो उनसे पहले ही से हिजरत के घर (मदीना) में ठिकाना बनाए हुए है और ईमान पर जमे हुए है, वे उनसे प्रेम करते है जो हिजरत करके उनके यहाँ आए है और जो कुछ भी उन्हें दिया गया उससे वे अपने सीनों में कोई खटक नहीं पाते और वे उन्हें अपने मुक़ाबले में प्राथमिकता देते है, यद्यपि अपनी जगह वे स्वयं मुहताज ही हों। और जो अपने मन के लोभ और कृपणता से बचा लिया जाए ऐसे लोग ही सफल है

English Sahih:

And [also for] those who were settled in the Home [i.e.,al-Madinah] and [adopted] the faith before them. They love those who emigrated to them and find not any want in their breasts of what they [i.e., the emigrants] were given but give [them] preference over themselves, even though they are in privation. And whoever is protected from the stinginess of his soul – it is those who will be the successful.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो लोग मोहाजेरीन से पहले (हिजरत के) घर (मदीना) में मुक़ीम हैं और ईमान में (मुसतक़िल) रहे और जो लोग हिजरत करके उनके पास आए उनसे मोहब्बत करते हैं और जो कुछ उनको मिला उसके लिए अपने दिलों में कुछ ग़रज़ नहीं पाते और अगरचे अपने ऊपर तंगी ही क्यों न हो दूसरों को अपने नफ्स पर तरजीह देते हैं और जो शख़्श अपने नफ्स की हिर्स से बचा लिया गया तो ऐसे ही लोग अपनी दिली मुरादें पाएँगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा उन लोगों[1] के लिए (भी), जिन्होंने आवास बना लिया इस घर (मदीना) को तथा उन (मुहाजिरों के आने) से पहले ईमान लाये, वे प्रेम करते हैं उनसे, जो हिजरत करके आ गये उनके यहाँ और वे नहीं पाते अपने दिलों में कोई आवश्यक्ता उसकी, जो उन्हें दिया जाये और प्राथमिक्ता देते हैं दूसरों को अपने ऊपर, चाहे स्वयं भूखे[1] हों और जो बचा लिये गये अपने मन की तंगी से, तो वही सफल होने वाले हैं।