Skip to main content

अल-अनाम आयत १०७ | Al-Anam 6:107

And if
وَلَوْ
और अगर
(had) willed
شَآءَ
चाहता
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
not (they would have)
مَآ
ना
associated partners (with Him)
أَشْرَكُوا۟ۗ
वो शिर्क करते
And not
وَمَا
और नहीं
We have made you
جَعَلْنَٰكَ
बनाया हमने आपको
over them
عَلَيْهِمْ
उन पर
a guardian
حَفِيظًاۖ
मुहाफ़िज़
and not
وَمَآ
और नहीं
you
أَنتَ
आप
(are) over them
عَلَيْهِم
उन पर
a manager
بِوَكِيلٍ
कोई कारसाज़

Walaw shaa Allahu ma ashrakoo wama ja'alnaka 'alayhim hafeethan wama anta 'alayhim biwakeelin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि अल्लाह चाहता तो वे (उसका) साझी न ठहराते। तुम्हें हमने उनपर कोई नियुक्त संरक्षक तो नहीं बनाया है और न तुम उनके कोई ज़िम्मेदार ही हो

English Sahih:

But if Allah had willed, they would not have associated. And We have not appointed you over them as a guardian, nor are you a manager over them.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और अगर ख़ुदा चाहता तो ये लोग शिर्क ही न करते और हमने तुमको उन लोगों का निगेहबान तो बनाया नहीं है और न तुम उनके ज़िम्मेदार हो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और यदि अल्लाह चाहता, तो वो लोग साझी न बनाते और हमने आपको उनपर निरीक्षक नहीं बनाया है और न ही आप उनपर[1] अधिकारी हैं।