Skip to main content

अल-अनाम आयत १३७ | Al-Anam 6:137

And likewise
وَكَذَٰلِكَ
और इसी तरह
made pleasing
زَيَّنَ
मुज़य्यन कर दिया
to many
لِكَثِيرٍ
अक्सरियत के लिए
of
مِّنَ
मुशरिकीन में से
the polytheists
ٱلْمُشْرِكِينَ
मुशरिकीन में से
(the) killing
قَتْلَ
क़त्ल करना
(of) their children
أَوْلَٰدِهِمْ
अपनी औलाद का
their partners
شُرَكَآؤُهُمْ
उनके शरीकों ने
so that they may ruin them
لِيُرْدُوهُمْ
ताकि वो हलाकत में डालें उन्हें
and that they make confusing
وَلِيَلْبِسُوا۟
और ताकि वो मुश्तबा कर दें
to them
عَلَيْهِمْ
उन पर
their religion
دِينَهُمْۖ
उनके दीन को
And if
وَلَوْ
और अगर
(had) willed
شَآءَ
चाहता
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
not
مَا
ना
(would) they have done so
فَعَلُوهُۖ
वो करते उसे
So leave them
فَذَرْهُمْ
पस छोड़ दीजिए उन्हें
and what
وَمَا
और जो कुछ
they invent
يَفْتَرُونَ
वो झूठ गढ़ते हैं

Wakathalika zayyana likatheerin mina almushrikeena qatla awladihim shurakaohum liyurdoohum waliyalbisoo 'alayhim deenahum walaw shaa Allahu ma fa'aloohu fatharhum wama yaftaroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

इसी प्रकार बहुत-से बहुदेववादियों के लिए उनके लिए साझीदारों ने उनकी अपनी सन्तान की हत्या को सुहाना बना दिया है, ताकि उन्हें विनष्ट कर दें और उनके लिए उनके धर्म को संदिग्ध बना दें। यदि अल्लाह चाहता तो वे ऐसा न करते; तो छोड़ दो उन्हें और उनके झूठ घड़ने को

English Sahih:

And likewise, to many of the polytheists their partners have made [to seem] pleasing the killing of their children in order to bring about their destruction and to cover them with confusion in their religion. And if Allah had willed, they would not have done so. So leave them and that which they invent.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ताकि उन्हें (बदी) हलाकत में डाल दें और उनके सच्चे दीन को उन पर मिला जुला दें और अगर ख़ुदा चाहता तो लोग ऐसा काम न करते तो तुम (ऐ रसूल) और उनकी इफ़तेरा परदाज़ियों को (ख़ुदा पर) छोड़ दो और ये लोग अपने ख्याल के मुवाफिक कहने लगे कि ये चौपाए और ये खेती अछूती है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और इसी प्रकार, बहुत-से मुश्रिकों के लिए अपनी संतान के वध करने को उनके बनाये हुए साझियों ने सुशोभित कर दिया है, ताकि उनका विनाश कर दें और ताकि उनके धर्म को उनपर संदिग्ध कर दें और यदि अल्लाह चाहता, तो वे ये (कुकर्म) नहीं करते। अतः, आप उन्हें छोड़[1] दें तथा उनकी बनायी हुई बातों को।