Skip to main content

अल-अनाम आयत १४१ | Al-Anam 6:141

And He
وَهُوَ
और वो ही है
(is) the One Who
ٱلَّذِىٓ
जिसने
produced
أَنشَأَ
पैदा किए
gardens
جَنَّٰتٍ
बाग़ात
trellised
مَّعْرُوشَٰتٍ
छतरियों पर चढ़ाए हुए
and other than
وَغَيْرَ
और बग़ैर
trellised
مَعْرُوشَٰتٍ
छतरियों पर चढ़ाए हुए
and the date-palm
وَٱلنَّخْلَ
और खजूर के दरख़्त
and the crops
وَٱلزَّرْعَ
और खेती
diverse
مُخْتَلِفًا
मुख़्तलिफ़ हैं
(are) its taste
أُكُلُهُۥ
फल उसके
and the olives
وَٱلزَّيْتُونَ
और ज़ैतून
and the pomegranates
وَٱلرُّمَّانَ
और अनार
similar
مُتَشَٰبِهًا
आपस में मिलते-जुलते
and other than
وَغَيْرَ
और ना
similar
مُتَشَٰبِهٍۚ
मिलते-जुलते
Eat
كُلُوا۟
खाओ
of
مِن
उसके फल में से
its fruit
ثَمَرِهِۦٓ
उसके फल में से
when
إِذَآ
जब
it bears fruit
أَثْمَرَ
वो फल लाए
and give
وَءَاتُوا۟
और दो
its due
حَقَّهُۥ
हक़ उसका
(on the) day
يَوْمَ
दिन
(of) its harvest
حَصَادِهِۦۖ
उसकी कटाई के
And (do) not
وَلَا
और ना
(be) extravagant
تُسْرِفُوٓا۟ۚ
तुम इसराफ़ करो
Indeed He
إِنَّهُۥ
बेशक वो
(does) not
لَا
नहीं वो पसंद करता
love
يُحِبُّ
नहीं वो पसंद करता
the ones who are extravagant
ٱلْمُسْرِفِينَ
इसराफ़ करने वालों को

Wahuwa allathee anshaa jannatin ma'rooshatin waghayra ma'rooshatin waalnnakhla waalzzar'a mukhtalifan okuluhu waalzzaytoona waalrrummana mutashabihan waghayra mutashabihin kuloo min thamarihi itha athmara waatoo haqqahu yawma hasadihi wala tusrifoo innahu la yuhibbu almusrifeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और वही है जिसने बाग़ पैदा किए; कुछ जालियों पर चढ़ाए जाते है और कुछ नहीं चढ़ाए जाते और खजूर और खेती भी जिनकी पैदावार विभिन्न प्रकार की होती है, और ज़ैतून और अनार जो एक-दूसरे से मिलते-जुलते भी है और नहीं भी मिलते है। जब वह फल दे, तो उसका फल खाओ और उसका हक़ अदा करो जो उस (फ़सल) की कटाई के दिन वाजिब होता है। और हद से आगे न बढ़ो, क्योंकि वह हद से आगे बढ़नेवालों को पसन्द नहीं करता

English Sahih:

And He it is who causes gardens to grow, [both] trellised and untrellised, and palm trees and crops of different [kinds of] food and olives and pomegranates, similar and dissimilar. Eat of [each of] its fruit when it yields and give its due [Zakah] on the day of its harvest. And be not excessive. Indeed, He does not like those who commit excess.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वह तो वही ख़ुदा है जिसने बहुतेरे बाग़ पैदा किए (जिनमें मुख्तलिफ दरख्त हैं - कुछ तो अंगूर की तरह टट्टियों पर) चढ़ाए हुए और (कुछ) बे चढ़ाए हुए और खजूर के दरख्त और खेती जिसमें फल मुख्तलिफ़ किस्म के हैं और ज़ैतून और अनार बाज़ तो सूरत रंग मज़े में, मिलते जुलते और (बाज़) बेमेल (लोगों) जब ये चीज़े फलें तो उनका फल खाओ और उन चीज़ों के काटने के दिन ख़ुदा का हक़ (ज़कात) दे दो और ख़बरदार फज़ूल ख़र्ची न करो - क्यों कि वह (ख़ुदा) फुज़ूल ख़र्चे से हरगिज़ उलफत नहीं रखता

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

अल्लाह वही है, जिसने बेलों वाले तथा बिना बेलों वाले बाग़ पैदा किये तथा खजूर और खेत, जिनसे विभिन्न प्रकार की पैदावार होती है और ज़ैतुन तथा अनार समरूप तथा स्वाद में विभिन्न, इसका फल खाओ, जब फले और फल तोड़ने के समय कुछ दान करो तथा अपव्यय[1] (बेजा खर्च) न करो। निःसंदेह, अल्लाह बेजा ख़र्च करने वालों से प्रेम नहीं करता।