Skip to main content

अस-सफ्फ आयत १२ | As-Saf 61:12

He will forgive
يَغْفِرْ
वो बख़्श देगा
for you
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
your sins
ذُنُوبَكُمْ
तुम्हारे गुनाहों को
and admit you
وَيُدْخِلْكُمْ
और वो दाख़िल करेगा तुम्हें
(in) Gardens
جَنَّٰتٍ
बाग़ात में
flow
تَجْرِى
बहती हैं
from
مِن
जिनके नीचे से
underneath it
تَحْتِهَا
जिनके नीचे से
the rivers
ٱلْأَنْهَٰرُ
नहरें
and dwellings
وَمَسَٰكِنَ
और घर
pleasant
طَيِّبَةً
पाकीज़ा
in
فِى
हमेशगी के बाग़ात में
Gardens
جَنَّٰتِ
हमेशगी के बाग़ात में
(of) Eternity
عَدْنٍۚ
हमेशगी के बाग़ात में
That
ذَٰلِكَ
यही है
(is) the success
ٱلْفَوْزُ
कामयाबी
the great
ٱلْعَظِيمُ
बहुत बड़ी

Yaghfir lakum thunoobakum wayudkhilkum jannatin tajree min tahtiha alanharu wamasakina tayyibatan fee jannati 'adnin thalika alfawzu al'atheemu

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वह तुम्हारे गुनाहों को क्षमा कर देगा और तुम्हें ऐसे बागों में दाखिल करेगा जिनके नीचे नहरें बह रही होगी और उन अच्छे घरों में भी जो सदाबहार बाग़ों में होंगे। यही बड़ी सफलता है

English Sahih:

He will forgive for you your sins and admit you to gardens beneath which rivers flow and pleasant dwellings in gardens of perpetual residence. That is the great attainment.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐसा करोगे) तो वह भी इसके ऐवज़ में तुम्हारे गुनाह बख्श देगा और तुम्हें उन बाग़ों में दाख़िल करेगा जिनके नीचे नहरें जारी हैं और पाकीजा मकानात में (जगह देगा) जो जावेदानी बेहिश्त में हैं यही तो बड़ी कामयाबी है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वह क्षमा कर देगा तुम्हारे पाप और प्रवेश देगा तुम्हें ऐसे स्वर्गों में, बहती हैं जिनमें नहरें तथा स्वच्छ घरों में स्थायी स्वर्गों में। यही बड़ी सफलता है।