Skip to main content

अत-तग़ाबुन आयत ४ | At-Taghabun 64:4

He knows
يَعْلَمُ
वो जानता है
what
مَا
जो कुछ
(is) in
فِى
आसमानों में है
the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में है
and the earth
وَٱلْأَرْضِ
और ज़मीन में
and He knows
وَيَعْلَمُ
और वो जानता है
what
مَا
जो कुछ
you conceal
تُسِرُّونَ
तुम छुपाते हो
and what
وَمَا
और जो कुछ
you declare
تُعْلِنُونَۚ
तुम ज़ाहिर करते हो
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
(is) All-Knowing
عَلِيمٌۢ
ख़ूब जानने वाला है
of what
بِذَاتِ
सीनों वाले (भेद)
(is in) the breasts
ٱلصُّدُورِ
सीनों वाले (भेद)

Ya'lamu ma fee alssamawati waalardi waya'lamu ma tusirroona wama tu'linoona waAllahu 'aleemun bithati alssudoori

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वह जानता है जो कुछ आकाशों और धरती में है और उसे भी जानता है जो कुछ तुम छिपाते हो और जो कुछ तुम प्रकट करते हो। अल्लाह तो सीनों में छिपी बात तक को जानता है

English Sahih:

He knows what is within the heavens and earth and knows what you conceal and what you declare. And Allah is Knowing of that within the breasts.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो कुछ सारे आसमान व ज़मीन में है वह (सब) जानता है और जो कुछ तुम छुपा कर या खुल्लम खुल्ला करते हो उससे (भी) वाकिफ़ है और ख़ुदा तो दिल के भेद तक से आगाह है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वह जानता है, जो कुछ आकाशों तथा धरती में है और जानता है, जो तुम मन में रखते हो और जो बोलते हो तथा अल्लाह भली-भाँति अवगत है दिलों के भेदों से।