Skip to main content

अत-तहरिम आयत १२ | At-Tahrim 66:12

And Maryam
وَمَرْيَمَ
और मरियम
(the) daughter
ٱبْنَتَ
बेटी
(of) Imran
عِمْرَٰنَ
इमरान की
who
ٱلَّتِىٓ
वो जिसने
guarded
أَحْصَنَتْ
महफ़ूज़ रखा
her chastity
فَرْجَهَا
अपनी शर्मगाह को
so We breathed
فَنَفَخْنَا
तो फ़ूँक दिया हमने
into it
فِيهِ
उसमें
of
مِن
अपनी रूह से
Our Spirit
رُّوحِنَا
अपनी रूह से
And she believed
وَصَدَّقَتْ
और उसने तस्दीक़ की
(in the) Words
بِكَلِمَٰتِ
कलमात की
(of) her Lord
رَبِّهَا
अपने रब के
and His Books
وَكُتُبِهِۦ
और उसकी किताबों की
and she was
وَكَانَتْ
और थी वो
of
مِنَ
फ़रमाबरदारों में से
the devoutly obedient
ٱلْقَٰنِتِينَ
फ़रमाबरदारों में से

Wamaryama ibnata 'imrana allatee ahsanat farjaha fanafakhna feehi min roohina wasaddaqat bikalimati rabbiha wakutubihi wakanat mina alqaniteena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और इमरान की बेटी मरयम की मिसाल पेश ही है जिसने अपने सतीत्व की रक्षा की थी, फिर हमने उस स्त्री के भीतर अपनी रूह फूँक दी और उसने अपने रब के बोलों और उसकी किताबों की पुष्टि की और वह भक्ति-प्रवृत्त आज्ञाकारियों में से थी

English Sahih:

And [the example of] Mary, the daughter of Imran, who guarded her chastity, so We blew into [her garment] through Our angel [i.e., Gabriel], and she believed in the words of her Lord and His scriptures and was of the devoutly obedient.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (दूसरी मिसाल) इमरान की बेटी मरियम जिसने अपनी शर्मगाह को महफूज़ रखा तो हमने उसमें रूह फूंक दी और उसने अपने परवरदिगार की बातों और उसकी किताबों की तस्दीक़ की और फरमाबरदारों में थी

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा मर्यम, इमरान की पुत्री का, जिसने रक्षा की अपने सतीत्व की, तो फूँक दी हमने उसमें अपनी ओर से रूह़ (आत्मा) तथा उस (मर्यम) ने सच माना अपने पालनहार की बातों और उसकी पुस्तकों को और वह इबादत करने वालों में से थी।