Skip to main content
bismillah
يَٰٓأَيُّهَا
ٱلنَّبِىُّ
नबी
لِمَ
क्यों
تُحَرِّمُ
आप हराम करते हैं
مَآ
उसको जो
أَحَلَّ
हलाल किया
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
لَكَۖ
आपके लिए
تَبْتَغِى
आप चाहते हैं
مَرْضَاتَ
रज़ामन्दी
أَزْوَٰجِكَۚ
अपनी बीवियों की
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
غَفُورٌ
बहुत बख़्शने वाला है
رَّحِيمٌ
निहायत रहम करने वाला है

Ya ayyuha alnnabiyyu lima tuharrimu ma ahalla Allahu laka tabtaghee mardata azwajika waAllahu ghafoorun raheemun

ऐ नबी! जिस चीज़ को अल्लाह ने तुम्हारे लिए वैध ठहराया है उसे तुम अपनी पत्नियों की प्रसन्नता प्राप्त करने के लिए क्यो अवैध करते हो? अल्लाह बड़ा क्षमाशील, अत्यन्त दयावान है

Tafseer (तफ़सीर )
قَدْ
तहक़ीक़
فَرَضَ
मुक़र्रर कर दिया है
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
تَحِلَّةَ
खोलना (कफ़्फ़ारा)
أَيْمَٰنِكُمْۚ
तुम्हारी क़समों का
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
مَوْلَىٰكُمْۖ
मौला है तुम्हारा
وَهُوَ
और वो ही है
ٱلْعَلِيمُ
ख़ूब इल्म वाला
ٱلْحَكِيمُ
ख़ूब हिकमत वाला

Qad farada Allahu lakum tahillata aymanikum waAllahu mawlakum wahuwa al'aleemu alhakeemu

अल्लाह ने तुम लोगों के लिए तुम्हारी अपनी क़समों की पाबंदी से निकलने का उपाय निश्चित कर दिया है। अल्लाह तुम्हारा संरक्षक है और वही सर्वज्ञ, अत्यन्त तत्वदर्शी है

Tafseer (तफ़सीर )
وَإِذْ
और जब
أَسَرَّ
छुपा कर की
ٱلنَّبِىُّ
नबी ने
إِلَىٰ
तरफ़ बाज़
بَعْضِ
तरफ़ बाज़
أَزْوَٰجِهِۦ
अपनी बीवियों के
حَدِيثًا
एक बात
فَلَمَّا
तो जब
نَبَّأَتْ
उसने ख़बर दे दी
بِهِۦ
उसकी
وَأَظْهَرَهُ
और ज़ाहिर कर दिया उसे
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
عَلَيْهِ
उस पर
عَرَّفَ
उसने बता दिया
بَعْضَهُۥ
बाज़ हिस्सा उसका
وَأَعْرَضَ
और उसने ऐराज़ किया
عَنۢ
बाज़ से
بَعْضٍۖ
बाज़ से
فَلَمَّا
तो जब
نَبَّأَهَا
उसने ख़बर दी उसे
بِهِۦ
उस (बात) की
قَالَتْ
वो कहने लगी
مَنْ
किस ने
أَنۢبَأَكَ
ख़बर दी आपको
هَٰذَاۖ
इसकी
قَالَ
कहा
نَبَّأَنِىَ
ख़बर दी मुझे
ٱلْعَلِيمُ
ख़ूब इल्म वाले ने
ٱلْخَبِيرُ
बहुत बाख़बर ने

Waith asarra alnnabiyyu ila ba'di azwajihi hadeethan falamma nabbaat bihi waathharahu Allahu 'alayhi 'arrafa ba'dahu waa'rada 'an ba'din falamma nabbaaha bihi qalat man anbaaka hatha qala nabbaaniya al'aleemu alkhabeeru

जब नबी ने अपनी पत्ऩियों में से किसी से एक गोपनीय बात कही, फिर जब उसने उसकी ख़बर कर दी और अल्लाह ने उसे उसपर ज़ाहिर कर दिया, तो उसने उसे किसी हद तक बता दिया और किसी हद तक टाल गया। फिर जब उसने उसकी उसे ख़बर की तो वह बोली, 'आपको इसकी ख़बर किसने दी?' उसने कहा, 'मुझे उसने ख़बर दी जो सब कुछ जाननेवाला, ख़बर रखनेवाला है।'

Tafseer (तफ़सीर )
إِن
अगर
تَتُوبَآ
तुम दोनों तौबा करो
إِلَى
तरफ़ अल्लाह के
ٱللَّهِ
तरफ़ अल्लाह के
فَقَدْ
पस तहक़ीक़
صَغَتْ
झुक पड़े हैं
قُلُوبُكُمَاۖ
दिल तुम दोनों के
وَإِن
और अगर
تَظَٰهَرَا
तुम एक दूसरे की मदद करोगी
عَلَيْهِ
उसके ख़िलाफ़
فَإِنَّ
पस बेशक
ٱللَّهَ
अल्लाह
هُوَ
वो
مَوْلَىٰهُ
मौला है उसका
وَجِبْرِيلُ
और जिबराईल
وَصَٰلِحُ
और नेक
ٱلْمُؤْمِنِينَۖ
मोमिनीन
وَٱلْمَلَٰٓئِكَةُ
और फ़रिश्ते
بَعْدَ
बाद
ذَٰلِكَ
उसके
ظَهِيرٌ
मददगार हैं

In tatooba ila Allahi faqad saghat quloobukuma wain tathahara 'alayhi fainna Allaha huwa mawlahu wajibreelu wasalihu almumineena waalmalaikatu ba'da thalika thaheerun

यदि तुम दोनों अल्लाह की ओर रुजू हो तो तुम्हारे दिल तो झुक ही चुके हैं, किन्तु यदि तुम उसके विरुद्ध एक-दूसरे की सहायता करोगी तो अल्लाह उसकी संरक्षक है, और जिबरील और नेक ईमानवाले भी, और इसके बाद फ़रिश्ते भी उसके सहायक है

Tafseer (तफ़सीर )
عَسَىٰ
उम्मीद है
رَبُّهُۥٓ
रब उसका
إِن
अगर
طَلَّقَكُنَّ
वो तलाक़ दे दे तुम्हें
أَن
कि
يُبْدِلَهُۥٓ
वो बदल कर दे दे उसे
أَزْوَٰجًا
बीवियाँ
خَيْرًا
बेहतर
مِّنكُنَّ
तुम से
مُسْلِمَٰتٍ
मुसलमान
مُّؤْمِنَٰتٍ
मोमिन
قَٰنِتَٰتٍ
इताअत गुज़ार
تَٰٓئِبَٰتٍ
तौबा गुज़ार
عَٰبِدَٰتٍ
इबादत गुज़ार
سَٰٓئِحَٰتٍ
रोज़ा दार
ثَيِّبَٰتٍ
शौहर दीदा
وَأَبْكَارًا
और कुवारियाँ

'asa rabbuhu in tallaqakunna an yubdilahu azwajan khayran minkunna muslimatin muminatin qanitatin taibatin 'abidatin saihatin thayyibatin waabkaran

इसकी बहुत सम्भावना है कि यदि वह तुम्हें तलाक़ दे दे तो उसका रब तुम्हारे बदले में तुमसे अच्छी पत्ऩियाँ उसे प्रदान करे - मुस्लिम, ईमानवाली, आज्ञाकारिणी, तौबा करनेवाली, इबादत करनेवाली, (अल्लाह के मार्ग में) सफ़र करनेवाली, विवाहिता और कुँवारियाँ भी

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए हो
قُوٓا۟
बचाओ
أَنفُسَكُمْ
अपने आपको
وَأَهْلِيكُمْ
और अपने घर वालों को
نَارًا
ऐसी आग से
وَقُودُهَا
ईंधन होगा उसका
ٱلنَّاسُ
लोग
وَٱلْحِجَارَةُ
और पत्थर
عَلَيْهَا
उस पर
مَلَٰٓئِكَةٌ
फ़रिश्ते हैं
غِلَاظٌ
सख़्त
شِدَادٌ
ज़बरदस्त
لَّا
नहीं वो नाफ़रमानी करते
يَعْصُونَ
नहीं वो नाफ़रमानी करते
ٱللَّهَ
अल्लाह की
مَآ
उसमें जिसका
أَمَرَهُمْ
उसने हुक्म दिया उन्हें
وَيَفْعَلُونَ
और वो करते हैं
مَا
जिसका
يُؤْمَرُونَ
वो हुक्म दिए जाते हैं

Ya ayyuha allatheena amanoo qoo anfusakum waahleekum naran waqooduha alnnasu waalhijaratu 'alayha malaikatun ghilathun shidadun la ya'soona Allaha ma amarahum wayaf'aloona ma yumaroona

ऐ ईमान लानेवालो! अपने आपको और अपने घरवालों को उस आग से बचाओ जिसका ईधन मनुष्य और पत्थर होंगे, जिसपर कठोर स्वभाव के ऐसे बलशाली फ़रिश्ते नियुक्त होंगे जो अल्लाह की अवज्ञा उसमें नहीं करेंगे जो आदेश भी वह उन्हें देगा, और वे वही करेंगे जिसका उन्हें आदेश दिया जाएगा

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जिन्होंने
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जिन्होंने
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
لَا
ना तुम मअज़रत करो
تَعْتَذِرُوا۟
ना तुम मअज़रत करो
ٱلْيَوْمَۖ
आज के दिन
إِنَّمَا
बेशक
تُجْزَوْنَ
तुम बदला दिए जा रहे हो
مَا
उसका जो
كُنتُمْ
थे तुम
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते

Ya ayyuha allatheena kafaroo la ta'tathiroo alyawma innama tujzawna ma kuntum ta'maloona

ऐ इनकार करनेवालो! आज उज़्र पेश न करो। तुम्हें बदले में वही तो दिया जा रहा है जो कुछ तुम करते रहे हो

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ऐ लोगो जो
ٱلَّذِينَ
ऐ लोगो जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए हो
تُوبُوٓا۟
तौबा करो
إِلَى
तरफ़ अल्लाह के
ٱللَّهِ
तरफ़ अल्लाह के
تَوْبَةً
तौबा
نَّصُوحًا
ख़ालिस
عَسَىٰ
उम्मीद है
رَبُّكُمْ
रब तुम्हारा
أَن
कि
يُكَفِّرَ
वो दूर कर देगा
عَنكُمْ
तुम से
سَيِّـَٔاتِكُمْ
बुराइयाँ तुम्हारी
وَيُدْخِلَكُمْ
और वो दाख़िल कर देगा तुम्हें
جَنَّٰتٍ
बाग़ात में
تَجْرِى
बहती हैं
مِن
उनके नीचे से
تَحْتِهَا
उनके नीचे से
ٱلْأَنْهَٰرُ
नहरें
يَوْمَ
जिस दिन
لَا
ना रुस्वा करेगा
يُخْزِى
ना रुस्वा करेगा
ٱللَّهُ
अल्लाह
ٱلنَّبِىَّ
नबी को
وَٱلَّذِينَ
और उन्हें जो
ءَامَنُوا۟
ईमान लाए
مَعَهُۥۖ
साथ उसके
نُورُهُمْ
नूर उनका
يَسْعَىٰ
दौड़ता होगा
بَيْنَ
उनके आगे
أَيْدِيهِمْ
उनके आगे
وَبِأَيْمَٰنِهِمْ
और उनके दाऐं
يَقُولُونَ
वो कहेंगे
رَبَّنَآ
ऐ हमारे रब
أَتْمِمْ
तमाम कर दे
لَنَا
हमारे लिए
نُورَنَا
नूर हमारा
وَٱغْفِرْ
और बख़्श दे
لَنَآۖ
हमें
إِنَّكَ
बेशक तू
عَلَىٰ
ऊपर
كُلِّ
हर
شَىْءٍ
चीज़ के
قَدِيرٌ
ख़ूब क़ुदरत रखने वाला है

Ya ayyuha allatheena amanoo tooboo ila Allahi tawbatan nasoohan 'asa rabbukum an yukaffira 'ankum sayyiatikum wayudkhilakum jannatin tajree min tahtiha alanharu yawma la yukhzee Allahu alnnabiyya waallatheena amanoo ma'ahu nooruhum yas'a bayna aydeehim wabiaymanihim yaqooloona rabbana atmim lana noorana waighfir lana innaka 'ala kulli shayin qadeerun

ऐ ईमान लानेवाले! अल्लाह के आगे तौबा करो, विशुद्ध तौबा। बहुत सम्भव है कि तुम्हारा रब तुम्हारी बुराइयाँ तुमसे दूर कर दे और तुम्हें ऐसे बाग़ों में दाख़िल करे जिनके नीचे नहरे बह रही होंगी, जिस दिन अल्लाह नबी को और उनको जो ईमान लाकर उसके साथ हुए, रुसवा न करेगा। उनका प्रकाश उनके आगे-आगे दौड़ रहा होगा और उनके दाहिने हाथ मे होगा। वे कह रहे होंगे, 'ऐ हमारे रब! हमारे लिए हमारे प्रकाश को पूर्ण कर दे और हमें क्षमा कर। निश्चय ही तू हर चीज़ की सामर्थ्य रखता है।'

Tafseer (तफ़सीर )
يَٰٓأَيُّهَا
ٱلنَّبِىُّ
नबी
جَٰهِدِ
जिहाद कीजिए
ٱلْكُفَّارَ
काफ़िरों से
وَٱلْمُنَٰفِقِينَ
और मुनाफ़िक़ों से
وَٱغْلُظْ
और सख़्ती कीजिए
عَلَيْهِمْۚ
उन पर
وَمَأْوَىٰهُمْ
और ठिकाना उनका
جَهَنَّمُۖ
जहन्नम है
وَبِئْسَ
और कितनी बुरी है
ٱلْمَصِيرُ
लौटने की जगह

Ya ayyuha alnnabiyyu jahidi alkuffara waalmunafiqeena waoghluth 'alayhim wamawahum jahannamu wabisa almaseeru

ऐ नबी! इनकार करनेवालों और कपटाचारियों से जिहाद करो और उनके साथ सख़्ती से पेश आओ। उनका ठिकाना जहन्नम है और वह अन्ततः पहुँचने की बहुत बुरी जगह है

Tafseer (तफ़सीर )
ضَرَبَ
बयान की
ٱللَّهُ
अल्लाह ने
مَثَلًا
एक मिसाल
لِّلَّذِينَ
उनके लिए जिन्होंने
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
ٱمْرَأَتَ
नूह की बीवी की
نُوحٍ
नूह की बीवी की
وَٱمْرَأَتَ
और लूत की बीवी की
لُوطٍۖ
और लूत की बीवी की
كَانَتَا
वो दोनों थीं
تَحْتَ
नीचे
عَبْدَيْنِ
दो बन्दों के
مِنْ
हमारे बन्दों में से
عِبَادِنَا
हमारे बन्दों में से
صَٰلِحَيْنِ
जो दोनों नेक थे
فَخَانَتَاهُمَا
तो उन दोनों ने ख़ियानत की
فَلَمْ
तो ना
يُغْنِيَا
वो दोनों काम आ सके
عَنْهُمَا
उन दोनों के
مِنَ
अल्लाह से
ٱللَّهِ
अल्लाह से
شَيْـًٔا
कुछ भी
وَقِيلَ
और कह दिया गया
ٱدْخُلَا
दोनों दाख़िल हो जाओ
ٱلنَّارَ
आग में
مَعَ
साथ दाख़िल होने वालों के
ٱلدَّٰخِلِينَ
साथ दाख़िल होने वालों के

Daraba Allahu mathalan lillatheena kafaroo imraata noohin waimraata lootin kanata tahta 'abdayni min 'ibadina salihayni fakhanatahuma falam yughniya 'anhuma mina Allahi shayan waqeela odkhula alnnara ma'a alddakhileena

अल्लाह ने इनकार करनेवालों के लिए नूह की स्त्री और लूत की स्त्री की मिसाल पेश की है। वे हमारे बन्दों में से दो नेक बन्दों के अधीन थीं। किन्तु उन दोनों स्त्रियों ने उनसे विश्वासघात किया तो अल्लाह के मुक़ाबले में उनके कुछ काम न आ सके और कह दिया गया, 'प्रवेश करनेवालों के साथ दोनों आग में प्रविष्ट हो जाओ।'

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अत-तहरिम
القرآن الكريم:التحريم
आयत सजदा (سجدة):-
सूरा (latin):At-Tahrim
सूरा:66
कुल आयत:12
कुल शब्द:247
कुल वर्ण:1060
रुकु:2
वर्गीकरण:मदीनन सूरा
Revelation Order:107
से शुरू आयत:5229