Skip to main content

अल-आराफ़ आयत १५५ | Al-Aaraf 7:155

And chose
وَٱخْتَارَ
और मुन्तख़िब कर लिए
Musa
مُوسَىٰ
मूसा ने
(from) his people
قَوْمَهُۥ
अपनी क़ौम से
seventy
سَبْعِينَ
सत्तर
men
رَجُلًا
आदमी
for Our appointment
لِّمِيقَٰتِنَاۖ
हमारे मुक़र्रर वक़्त के लिए
Then when
فَلَمَّآ
फिर जब
seized them
أَخَذَتْهُمُ
पकड़ लिया उन्हें
the earthquake
ٱلرَّجْفَةُ
ज़लज़ले ने
he said
قَالَ
उसने कहा
"O my Lord!
رَبِّ
ऐ मेरे रब
If
لَوْ
अगर
you (had) willed
شِئْتَ
चाहता तू
You (could) have destroyed them
أَهْلَكْتَهُم
हलाक कर देता तू इन्हें
from
مِّن
इससे पहले
before
قَبْلُ
इससे पहले
and me
وَإِيَّٰىَۖ
और मुझे भी
Would You destroy us
أَتُهْلِكُنَا
क्या तू हलाक करता है हमें
for what
بِمَا
बवजह उसके जो
did
فَعَلَ
किया
the foolish
ٱلسُّفَهَآءُ
कुछ नादानों ने
among us?
مِنَّآۖ
हम में से
Not
إِنْ
नहीं है
it (was)
هِىَ
ये
but
إِلَّا
मगर
Your trial
فِتْنَتُكَ
आज़माइश तेरी
You let go astray
تُضِلُّ
तू गुमराह करता है
by it
بِهَا
साथ इसके
whom
مَن
जिसे
You will
تَشَآءُ
तू चाहता है
and You guide
وَتَهْدِى
और तू हिदायत देता है
whom
مَن
जिसे
You will
تَشَآءُۖ
तू चाहता है
You
أَنتَ
तू ही
(are) our Protector
وَلِيُّنَا
दोस्त है हमारा
so forgive
فَٱغْفِرْ
पस बख़्श दे
us
لَنَا
हमें
and have mercy upon us
وَٱرْحَمْنَاۖ
और रहम फ़रमा हम पर
and You
وَأَنتَ
और तू
(are) Best
خَيْرُ
बेहतर है
(of) Forgivers
ٱلْغَٰفِرِينَ
सब बख़्शने वालों से

Waikhtara moosa qawmahu sab'eena rajulan limeeqatina falamma akhathathumu alrrajfatu qala rabbi law shita ahlaktahum min qablu waiyyaya atuhlikuna bima fa'ala alssufahao minna in hiya illa fitnatuka tudillu biha man tashao watahdee man tashao anta waliyyuna faighfir lana wairhamna waanta khayru alghafireena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

मूसा ने अपनी क़ौम के सत्तर आदमियों को हमारे नियत किए हुए समय के लिए चुना। फिर जब उन लोगों को एक भूकम्प ने आ पकड़ा तो उसने कहा, 'मेर रब! यदि तू चाहता तो पहले ही इनको और मुझको विनष्ट़ कर देता। जो कुछ हमारे नादानों ने किया है, क्या उसके कारण तू हमें विनष्ट करेगा? यह तो बस तेरी ओर से एक परीक्षा है। इसके द्वारा तू जिसको चाहे पथभ्रष्ट कर दे और जिसे चाहे मार्ग दिखा दे। तू ही हमारा संरक्षक है। अतः तू हमें क्षमा कर दे और हम पर दया कर, और तू ही सबसे बढ़कर क्षमा करनेवाला है

English Sahih:

And Moses chose from his people seventy men for Our appointment. And when the earthquake seized them, he said, "My Lord, if You had willed, You could have destroyed them before and me [as well]. Would You destroy us for what the foolish among us have done? This is not but Your trial by which You send astray whom You will and guide whom You will. You are our Protector, so forgive us and have mercy upon us; and You are the best of forgivers.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और मूसा ने अपनी क़ौम से हमारा वायदा पूरा करने को (कोहतूर पर ले जाने के वास्ते) सत्तर आदमियों को चुना फिर जब उनको ज़लज़ले ने आ पकड़ा तो हज़रत मूसा ने अर्ज़ किया परवरदिगार अगर तू चाहता तो मुझको और उन सबको पहले ही हलाक़ कर डालता क्या हम में से चन्द बेवकूफों की करनी की सज़ा में हमको हलाक़ करता है ये तो सिर्फ तेरी आज़माइश थी तू जिसे चाहे उसे गुमराही में छोड़ दे और जिसको चाहे हिदायत दे तू ही हमारा मालिक है तू ही हमारे कुसूर को माफ कर और हम पर रहम कर और तू तो तमाम बख्शने वालों से कहीें बेहतर है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और मूसा ने हमारे निर्धारित[1] समय के लिए अपनी जाति के सत्तर व्यक्तियों को चुन लिया और जब उन्हें भूकंप ने घेर[2] लिया, तो मूसा ने कहाः हे मेरे पालनहार! यदि तू चाहता तो इन सबका इससे पहले ही विनाश कर देता और मेरा भी। क्या तू हमारा उस कुकर्म के कारण नाश कर देगा, जो हममें से कुछ निर्बोध कर गये? ये[3] तेरी ओर से केवल एक परीक्षा थी। तू जिसे चाहे, उसके द्वारा कुपथ कर दे और जिसे चाहे, सुपथ दर्शा दे। तू ही हमारा संरक्षक है, अतः हमारे पापों को क्षमा कर दे और हमपर दया कर, तू सर्वोत्तम क्षमावान् है।