Skip to main content

अल-आराफ़ आयत १५४ | Al-Aaraf 7:154

And when
وَلَمَّا
और जब
was calmed
سَكَتَ
थम गया
from
عَن
मूसा से
Musa
مُّوسَى
मूसा से
the anger
ٱلْغَضَبُ
ग़ज़ब
he took (up)
أَخَذَ
उसने ले लीं
the tablets
ٱلْأَلْوَاحَۖ
तख़्तियाँ
and in
وَفِى
और उनकी तहरीर में
their inscription
نُسْخَتِهَا
और उनकी तहरीर में
(was) guidance
هُدًى
हिदायत
and mercy
وَرَحْمَةٌ
और रहमत थी
for those who
لِّلَّذِينَ
उन लोगों के लिए
[they]
هُمْ
वो जो
of their Lord
لِرَبِّهِمْ
अपने रब से
(are) fearful
يَرْهَبُونَ
वो डरते थे

Walamma sakata 'an moosa alghadabu akhatha alalwaha wafee nuskhatiha hudan warahmatun lillatheena hum lirabbihim yarhaboona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जब मूसा का क्रोध शान्त हुआ तो उसने तख़्तियों को उठा लिया। उनके लेख में उन लोगों के लिए मार्गदर्शन और दयालुता थी जो अपने रब से डरते है

English Sahih:

And when the anger subsided in Moses, he took up the tablets; and in their inscription was guidance and mercy for those who are fearful of their Lord.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जब मूसा का गुस्सा ठण्डा हुआ तो (तौरैत) की तख्तियों को (ज़मीन से) उठा लिया और तौरैत के नुस्खे में जो लोग अपने परवरदिगार से डरते है उनके लिए हिदायत और रहमत है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

फिर जब मूसा का क्रोध शान्त हो गया, तो उसने लेख तख़्तियाँ उठा लीं, जिनके लिखे आदेशों में मार्गदर्शन तथा दया थी, उन लोगों के लिए, जो अपने पालनहार से ही डरते हों।