Skip to main content

अल-मुर्सलत आयत ४६ | Al-Mursalat 77:46

Eat
كُلُوا۟
खाओ
and enjoy yourselves
وَتَمَتَّعُوا۟
और फ़ायदा उठा लो
a little;
قَلِيلًا
थोड़ा सा
indeed you
إِنَّكُم
बेशक तुम
(are) criminals"
مُّجْرِمُونَ
मुजरिम हो

Kuloo watamatta'oo qaleelan innakum mujrimoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

'खा लो और मज़े कर लो थोड़ा-सा, वास्तव में तुम अपराधी हो!'

English Sahih:

[O disbelievers], eat and enjoy yourselves a little; indeed, you are criminals.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(झुठलाने वालों) चन्द दिन चैन से खा पी लो तुम बेशक गुनेहगार हो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(हे झुठलाने वालो!) तुम खा लो तथा आनन्द ले लो कुछ[1] दिन। वास्तव में, तुम अपराधी हो।