Skip to main content

अन-नाज़िआ़त आयत १ | An-Nazi’at 79:1

By those who extract
وَٱلنَّٰزِعَٰتِ
क़सम है (उन फ़रिश्तों की ) जो खींचने वाले हैं
violently
غَرْقًا
डूब कर

Waalnnazi'ati gharqan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

गवाह है वे (हवाएँ) जो ज़ोर से उखाड़ फैंके,

English Sahih:

By those [angels] who extract with violence

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

उन (फ़रिश्तों) की क़सम

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

शपथ है उन फ़रिश्तों की जो डूबकर (प्राण) निकालते हैं!