Skip to main content

अल-अन्फाल आयत ५५ | Al-Anfal 8:55

Indeed
إِنَّ
बेशक
(the) worst
شَرَّ
बदतरीन
(of) the living creatures
ٱلدَّوَآبِّ
जानदारों में
near
عِندَ
अल्लाह के नज़दीक
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के नज़दीक
(are) those who
ٱلَّذِينَ
वो हैं जिन्होंने
disbelieve
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
and they
فَهُمْ
पस वो
(will) not
لَا
नहीं वो ईमान लाऐंगे
believe
يُؤْمِنُونَ
नहीं वो ईमान लाऐंगे

Inna sharra alddawabbi 'inda Allahi allatheena kafaroo fahum la yuminoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

निश्चय ही, सबसे बुरे प्राणी अल्लाह की स्पष्ट में वे लोग है, जिन्होंने इनकार किया। फिर वे ईमान नहीं लाते

English Sahih:

Indeed, the worst of living creatures in the sight of Allah are those who have disbelieved, and they will not [ever] believe–

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

इसमें शक़ नहीं कि ख़ुदा के नज़दीक जानवरों में कुफ्फ़ार सबसे बदतरीन तो (बावजूद इसके) फिर ईमान नहीं लाते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वास्तव में, सबसे बुरे जीव अल्लाह के पास वो हैं, जो काफ़िर हो गये और ईमान नहीं लाये। ये वे[1] लोग हैं, जिनसे आपने संधि की, फिर वे प्रत्येक अवसर पर अपना वचन भंग कर देते हैं और (अल्लाह से) नहीं डरते।