Skip to main content

अत-तक्वीर आयत २४ | At-Takwir 81:24

And not
وَمَا
और नहीं
he (is)
هُوَ
वो
on
عَلَى
ग़ैब पर
the unseen
ٱلْغَيْبِ
ग़ैब पर
a withholder
بِضَنِينٍ
हरगिज़ बख़ील

Wama huwa 'ala alghaybi bidaneenin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और वह परोक्ष के मामले में कृपण नहीं है,

English Sahih:

And he [i.e., Muhammad] is not a withholder of [knowledge of] the unseen.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वह ग़ैब की बातों के ज़ाहिर करने में बख़ील नहीं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वह परोक्ष (ग़ैब) की बात बताने में प्रलोभी नहीं है।[1]