Skip to main content

अत-तौबा आयत ६६ | At-Taubah 9:66

(Do) not
لَا
ना तुम उज़र पेश करो
make excuse;
تَعْتَذِرُوا۟
ना तुम उज़र पेश करो
verily
قَدْ
तहक़ीक़
you have disbelieved
كَفَرْتُم
कुफ़्र किया तुमने
after
بَعْدَ
बाद
your belief
إِيمَٰنِكُمْۚ
अपने ईमान के
If
إِن
अगर
We pardon
نَّعْفُ
हम माफ़ कर दें
[on]
عَن
एक गिरोह को
a party
طَآئِفَةٍ
एक गिरोह को
of you
مِّنكُمْ
तुम में से
We will punish
نُعَذِّبْ
(तो) हम अज़ाब देंगे
a party
طَآئِفَةًۢ
एक गिरोह को
because they
بِأَنَّهُمْ
बवजह उसके कि वो
were
كَانُوا۟
हैं वो
criminals
مُجْرِمِينَ
मुजरिम

La ta'tathiroo qad kafartum ba'da eemanikum in na'fu 'an taifatin minkum nu'aththib taifatan biannahum kanoo mujrimeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

'बहाने न बनाओ, तुमने अपने ईमान के पश्चात इनकार किया। यदि हम तुम्हारे कुछ लोगों को क्षमा भी कर दें तो भी कुछ लोगों को यातना देकर ही रहेंगे, क्योंकि वे अपराधी हैं।'

English Sahih:

Make no excuse; you have disbelieved [i.e., rejected faith] after your belief. If We pardon one faction of you – We will punish another faction because they were criminals.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

अब बातें न बनाओं हक़ तो ये हैं कि तुम ईमान लाने के बाद काफ़िर हो बैठे अगर हम तुममें से कुछ लोगों से दरगुज़र भी करें तो हम कुछ लोगों को सज़ा ज़रूर देगें इस वजह से कि ये लोग कुसूरवार ज़रूर हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तुम बहाने न बनाओ, तुमने अपने ईमान के पश्चात् कुफ़्र किया है। यदि हम तुम्हारे एक गिरोह को क्षमा कर दें, तो भी एक गिरोह को अवश्य यातना देंगे। क्योंकि वही अपराधी हैं।