Skip to main content

अत-तौबा आयत ९० | At-Taubah 9:90

And came
وَجَآءَ
और आ गए
the ones who make excuses
ٱلْمُعَذِّرُونَ
उज़र करने वाले
of
مِنَ
बदवियों/देहातियों में से
the bedouins
ٱلْأَعْرَابِ
बदवियों/देहातियों में से
that permission be granted
لِيُؤْذَنَ
कि इजाज़त दी जाए
to them
لَهُمْ
उन्हें
and sat
وَقَعَدَ
और बैठ गए
those who
ٱلَّذِينَ
वो जिन्होंने
lied
كَذَبُوا۟
झूठ बोला
(to) Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह से
and His Messenger
وَرَسُولَهُۥۚ
और उसके रसूल से
Will strike
سَيُصِيبُ
अनक़रीब पहुँचेगा
those who
ٱلَّذِينَ
उन्हें जिन्होंने
disbelieved
كَفَرُوا۟
कुफ़्र किया
among them
مِنْهُمْ
उनमें से
a punishment
عَذَابٌ
अज़ाब
painful
أَلِيمٌ
दर्दनाक

Wajaa almu'aththiroona mina ala'rabi liyuthana lahum waqa'ada allatheena kathaboo Allaha warasoolahu sayuseebu allatheena kafaroo minhum 'athabun aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

बहाने करनेवाले बद्दूल भी आए कि उन्हें (बैठे रहने की) छुट्टी मिल जाए। और जो अल्लाह और उसके रसूल से झूठ बोले वे भी बैठे रहे। उनमें से जिन्होंने इनकार किया उन्हें शीघ्र ही एक दुखद यातना पहुँचकर रहेगी

English Sahih:

And those with excuses among the bedouins came to be permitted [to remain], and they who had lied to Allah and His Messenger sat [at home]. There will strike those who disbelieved among them a painful punishment.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (तुम्हारे पास) कुछ हीला करने वाले गवार देहाती (भी) आ मौजदू हुए ताकि उनको भी (पीछे रह जाने की) इजाज़त दी जाए और जिन लोगों ने ख़ुदा और उसके रसूल से झूठ कहा था वह (घर में) बैठ रहे (आए तक नहीं) उनमें से जिन लोगों ने कुफ़्र एख्तेयार किया अनक़रीब ही उन पर दर्दनाक अज़ाब आ पहुँचेगा

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और देहातियों में से कुछ बहाना करने वाले आये, ताकि आप उन्हें अनुमति दें तथा वह बैठे रह गये, जिन्होंने अल्लाह और उसके रसूल से झूठ बोला। तो इनमें से काफ़िरों को दुःखदायी यातना पहुँचेगी।