Skip to main content

युनुस आयत ११ | Yunus 10:11

And if
وَلَوْ
और अगर
hastens
يُعَجِّلُ
जल्दी करता
(by) Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
for the mankind
لِلنَّاسِ
लोगों के लिए
the evil
ٱلشَّرَّ
बुराई को (देने में)
(as) He hastens for them
ٱسْتِعْجَالَهُم
जल्दी माँगना है उनका (जैसे)
the good
بِٱلْخَيْرِ
भलाई को
surely, would have been decreed
لَقُضِىَ
अलबत्ता पूरी कर दी जाए
for them
إِلَيْهِمْ
तरफ़ उनके
their term
أَجَلُهُمْۖ
मुद्दत उनकी
But We leave
فَنَذَرُ
तो हम छोड़ देते हैं
those who
ٱلَّذِينَ
उन्हें जो
(do) not
لَا
नहीं वो उम्मीद रखते
expect
يَرْجُونَ
नहीं वो उम्मीद रखते
the meeting with Us
لِقَآءَنَا
हमारी मुलाक़ात की
in
فِى
अपनी सरकशी में
their transgression
طُغْيَٰنِهِمْ
अपनी सरकशी में
wandering blindly
يَعْمَهُونَ
वो भटकते फिरते हैं

Walaw yu'ajjilu Allahu lilnnasi alshsharra isti'jalahum bialkhayri laqudiya ilayhim ajaluhum fanatharu allatheena la yarjoona liqaana fee tughyanihim ya'mahoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

यदि अल्लाह लोगों के लिए उनके जल्दी मचाने के कारण भलाई की जगह बुराई को शीघ्र घटित कर दे तो उनकी ओर उनकी अवधि पूरी कर दी जाए, किन्तु हम उन लोगों को जो हमसे मिलने की आशा नहीं रखते उनकी अपनी सरकशी में भटकने के लिए छोड़ देते है

English Sahih:

And if Allah was to hasten for the people the evil [they invoke] as He hastens for them the good, their term would have been ended for them. But We leave the ones who do not expect the meeting with Us, in their transgression, wandering blindly.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जिस तरह लोग अपनी भलाई के लिए जल्दी कर बैठे हैं उसी तरह अगर ख़ुदा उनकी शरारतों की सज़ा में बुराई में जल्दी कर बैठता है तो उनकी मौत उनके पास कब की आ चुकी होती मगर हम तो उन लोगों को जिन्हें (मरने के बाद) हमारी हुज़ूरी का खटका नहीं छोड़ देते हैं कि वह अपनी सरकशी में आप सरग़िरदा रहें

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और यदि अल्लाह, लोगों को तुरन्त बुराई का (बदला) दे देता, जैसे वे तुरन्त (सांसारिक) भलाई चाहते हैं, तो उनका समय कभी पूरा हो चुका होता! अतः जो (मरने के पश्चात्) हमसे मिलने की आशा नहीं रखते, हम उन्हें, उनके कुकर्मों में बहकते हुए[1] छोड़ देंगे।