Skip to main content
And O my people!
وَيَٰقَوْمِ
और ऐ मेरी क़ौम
Who
مَن
कौन
would help me
يَنصُرُنِى
मदद करेगा मेरी
against
مِنَ
अल्लाह से (बचाने में)
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह से (बचाने में)
if
إِن
अगर
I drove them away
طَرَدتُّهُمْۚ
दूर कर दिया मैंने उन्हें
Then will not
أَفَلَا
क्या भला नहीं
you take heed?
تَذَكَّرُونَ
तुम नसीहत पकड़ते

Waya qawmi man yansurunee mina Allahi in taradtuhum afala tathakkaroona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और ऐ मेरी क़ौम के लोगो! यदि मैं उन्हें धुत्कार दूँ तो अल्लाह के मुक़ाबले में कौन मेरी सहायता कर सकता है? फिर क्या तुम होश से काम नहीं लेते?

English Sahih:

And O my people, who would protect me from Allah if I drove them away? Then will you not be reminded?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और मेरी क़ौम अगर मै इन (बेचारे ग़रीब) (ईमानदारों) को निकाल दूँ तो ख़ुदा (के अज़ाब) से (बचाने में) मेरी मदद कौन करेगा तो क्या तुम इतना भी ग़ौर नहीं करते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और हे मेरी जाति के लोगो! कौन अल्लाह की पकड़ से[1] मुझे बचायेगा, यदि मैं उन्हें अपने पास से धुतकार दूँ? क्या तुम सोचते नहीं हो?