Skip to main content
And not
وَلَآ
और नहीं
I say
أَقُولُ
मैं कहता
to you
لَكُمْ
तुम्हें
(that) with me
عِندِى
मेरे पास
(are the) treasures
خَزَآئِنُ
ख़ज़ाने हैं
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के
and not
وَلَآ
और ना
I know
أَعْلَمُ
मैं जानता हूँ
the unseen
ٱلْغَيْبَ
ग़ैब को
and not
وَلَآ
और ना
I say
أَقُولُ
मैं कहता हूँ
that I am
إِنِّى
कि मैं
an Angel
مَلَكٌ
कोई फ़रिश्ता हूँ
and not
وَلَآ
और ना
I say
أَقُولُ
मैं कहता हूँ
for those whom
لِلَّذِينَ
उनके लिए जिन्हें
look down upon
تَزْدَرِىٓ
हक़ीर समझती हैं
your eyes
أَعْيُنُكُمْ
निगाहें तुम्हारी
never
لَن
कि हरगिज़ ना
will Allah give them
يُؤْتِيَهُمُ
देगा उन्हें
will Allah give them
ٱللَّهُ
अल्लाह
any good
خَيْرًاۖ
कोई भलाई
Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
knows best
أَعْلَمُ
ख़ूब जानता है
what
بِمَا
उसे जो
(is) in
فِىٓ
उनके नफ़्सों में है
their souls
أَنفُسِهِمْۖ
उनके नफ़्सों में है
Indeed, I
إِنِّىٓ
बेशक मैं
then
إِذًا
तब
(will be) surely of
لَّمِنَ
ज़रूर ज़ालिमों में से हूँगा
the wrongdoers"
ٱلظَّٰلِمِينَ
ज़रूर ज़ालिमों में से हूँगा

Wala aqoolu lakum 'indee khazainu Allahi wala a'lamu alghayba wala aqoolu innee malakun wala aqoolu lillatheena tazdaree a'yunukum lan yutiyahumu Allahu khayran Allahu a'lamu bima fee anfusihim innee ithan lamina alththalimeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और मैं तुमसे यह नहीं कहता कि मेरे पास अल्लाह के ख़जाने है और न मुझे परोक्ष का ज्ञान है और न मैं यह कहता हूँ कि मैं कोई फ़रिश्ता हूँ और न उन लोगों के विषय में, जो तुम्हारी दृष्टि में तुच्छ है, मैं यह कहता हूँ कि अल्लाह उन्हें कोई भलाई न देगा। जो कुछ उनके जी में है, अल्लाह उसे भली-भाँति जानता है। (यदि मैं ऐसा कहूँ) तब तो मैं अवश्य ही ज़ालिमों में से हूँगा।'

English Sahih:

And I do not tell you that I have the depositories [containing the provision] of Allah or that I know the unseen, nor do I tell you that I am an angel, nor do I say of those upon whom your eyes look down that Allah will never grant them any good. Allah is most knowing of what is within their souls. Indeed, I would then be among the wrongdoers [i.e., the unjust]."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और मै तो तुमसे ये नहीं कहता कि मेरे पास खुदाई ख़ज़ाने हैं और न (ये कहता हूँ कि) मै ग़ैब वॉ हूँ (गैब का जानने वाला) और ये कहता हूँ कि मै फरिश्ता हूँ और जो लोग तुम्हारी नज़रों में ज़लील हैं उन्हें मै ये नहीं कहता कि ख़ुदा उनके साथ हरगिज़ भलाई नहीं करेगा उन लोगों के दिलों की बात ख़ुदा ही खूब जानता है और अगर मै ऐसा कहूँ तो मै भी यक़ीनन ज़ालिम हूँ

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और मैं तुमसे ये नहीं कहता कि मेरे पास अल्लाह के कोषागार (ख़ज़ाने) हैं और न मैं गुप्त बातों का ज्ञान रखता हूँ और ये भी नहीं कहता कि मैं फ़रिश्ता हूँ और ये भी नहीं कहता कि जिन्हें तुम्हारी आँखें घृणा से देखती हैं, अल्लाह उन्हें कोई भलाई नहीं देगा। अल्लाह अधिक जानता है, जो कुछ उनके दिलों में है। यदि मैं ऐसा कहूँ, तो निश्चय अत्याचारियों में हो जाऊँगा।