Skip to main content

युसूफ आयत ३२ | Yusuf 12:32

She said
قَالَتْ
वो कहने लगी
"That
فَذَٰلِكُنَّ
तो ये है
(is) the one
ٱلَّذِى
वो शख़्स जो
you blamed me
لُمْتُنَّنِى
तुम मलामत करती हो मुझे
about him
فِيهِۖ
जिस (के बारे) में
And certainly
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
I sought to seduce him
رَٰوَدتُّهُۥ
मैंने फुसलाना चाहा उसे
[from]
عَن
उसके नफ़्स के बारे में
[himself]
نَّفْسِهِۦ
उसके नफ़्स के बारे में
but he saved himself
فَٱسْتَعْصَمَۖ
पस वो बच निकला
and if
وَلَئِن
और अलबत्ता अगर
not
لَّمْ
ना
he does
يَفْعَلْ
उसने किया
what
مَآ
जो
I order him
ءَامُرُهُۥ
मैं हुक्म देती हूँ उसे
surely he will be imprisoned
لَيُسْجَنَنَّ
अलबत्ता वो ज़रूर क़ैद किया जाएगा
and certainly will be
وَلَيَكُونًا
और अलबत्ता वो हो जाएगा
of
مِّنَ
ज़लील होने वालों में से
those who are disgraced
ٱلصَّٰغِرِينَ
ज़लील होने वालों में से

Qalat fathalikunna allathee lumtunnanee feehi walaqad rawadtuhu 'an nafsihi faist'sama walain lam yaf'al ma amuruhu layusjananna walayakoonan mina alssaghireena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वह बोली, 'यह वही है जिसके विषय में तुम मुझे मलामत कर रही थीं। हाँ, मैंने इसे रिझाना चाहा था, किन्तु यह बचा रहा। और यदि इसने न किया जो मैं इससे कहती तो यह अवश्य क़ैद किया जाएगा और अपमानित होगा।'

English Sahih:

She said, "That is the one about whom you blamed me. And I certainly sought to seduce him, but he firmly refused; and if he will not do what I order him, he will surely be imprisoned and will be of those debased."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(तब ज़ुलेख़ा उन औरतों से) बोली कि बस ये वही तो है जिसकी बदौलत तुम सब मुझे मलामत (बुरा भला) करती थीं और हाँ बेशक मैं उससे अपना मतलब हासिल करने की खुद उससे आरज़ू मन्द थी मगर ये बचा रहा और जिस काम का मैं हुक्म देती हूँ अगर ये न करेगा तो ज़रुर क़ैद भी किया जाएगा और ज़लील भी होगा (ये सब बातें यूसुफ ने मेरी बारगाह में) अर्ज़ की

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

उसने कहाः यही वह है, जिसके बारे में तुमने मेरी निंदा की है। वास्तव में, मैंने ही उसे रिझाया था। मगर वह बच निकला और यदि, वह मेरी बात न मानेगा, तो अवश्य बंदी बना दिया जायेगा और अपमानितों में हो जायेगा।