Skip to main content

अन नहल आयत ८६ | An-Nahl 16:86

And when
وَإِذَا
और जब
(will) see
رَءَا
देखेंगे
those who
ٱلَّذِينَ
वो लोग जिन्होंने
associated partners with Allah
أَشْرَكُوا۟
शरीक बनाए
their partners
شُرَكَآءَهُمْ
अपने शरीकों को
They will say
قَالُوا۟
वो कहेंगे
"Our Lord
رَبَّنَا
ऐ हमारे रब
these
هَٰٓؤُلَآءِ
ये हैं
(are) our partners
شُرَكَآؤُنَا
शरीक हमारे
those whom
ٱلَّذِينَ
वो जिन्हें
we used to
كُنَّا
थे हम
invoke
نَدْعُوا۟
हम पुकारते
besides You"
مِن
तेरे सिवा
besides You"
دُونِكَۖ
तेरे सिवा
But they (will) throw back
فَأَلْقَوْا۟
तो वो डालेंगे
at them
إِلَيْهِمُ
तरफ़ उनके
(their) word
ٱلْقَوْلَ
बात को
"Indeed, you
إِنَّكُمْ
बेशक तुम
(are) surely liars"
لَكَٰذِبُونَ
अलबत्ता झूठे हो

Waitha raa allatheena ashrakoo shurakaahum qaloo rabbana haolai shurakaona allatheena kunna nad'oo min doonika faalqaw ilayhimu alqawla innakum lakathiboona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जब वे लोग जिन्होंने शिर्क किया अपने ठहराए हुए साझीदारों को देखेंगे तो कहेंगे, 'हमारे रब! यही हमारे वे साझीदार है जिन्हें हम तुझसे हटकर पुकारते थे।' इसपर वे उनकी ओर बात फेंक मारेंगे कि 'तुम बिलकुल झूठे हो।'

English Sahih:

And when those who associated others with Allah see their "partners," they will say, "Our Lord, these are our partners [to You] whom we used to invoke [in worship] besides You." But they will throw at them the statement, "Indeed, you are liars."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जिन लोगों ने दुनिया में ख़ुदा का शरीक (दूसरे को) ठहराया था जब अपने (उन) शरीकों को (क़यामत में) देखेंगे तो बोल उठेगें कि ऐ हमारे परवरदिगार यही तो हमारे शरीक हैं जिन्हें हम (मुसीबत) के वक्त तुझे छोड़ कर पुकारा करते थे तो वह शरीक उन्हीं की तरफ बात को फेंक मारेगें कि तुम निरे झूठे हो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जब मुश्रिक अपने (बनाये हुए) साझियों को देखेंगे, तो कहेंगेः हे हमारे पालनहार! यही हमारे साझी हैं, जिन्हें हम, तुझे छोड़कर पुकार रहे थे। तो वे (पूज्य) बोलेंगे कि निश्चय तुम सब मिथ्यावादी (झूठे) हो।