Skip to main content

अल इस्रा आयत १०० | Al-Isra 17:100

Say
قُل
कह दीजिए
"If
لَّوْ
अगर
you
أَنتُمْ
तुम
possess
تَمْلِكُونَ
तुम मालिक होते
the treasures
خَزَآئِنَ
ख़जानों के
(of) the Mercy
رَحْمَةِ
रहमत के
(of) my Lord
رَبِّىٓ
मेरे रब के
then
إِذًا
तब
surely you would withhold
لَّأَمْسَكْتُمْ
अलबत्ता रोक लेते तुम
(out of) fear
خَشْيَةَ
डर से
(of) spending"
ٱلْإِنفَاقِۚ
ख़र्च हो जाने के
And is
وَكَانَ
और है
man
ٱلْإِنسَٰنُ
इन्सान
stingy
قَتُورًا
बहुत कंजूस/बख़ील

Qul law antum tamlikoona khazaina rahmati rabbee ithan laamsaktum khashyata alinfaqi wakana alinsanu qatooran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कहो, 'यदि कहीं मेरे रब की दयालुता के ख़ज़ाने तुम्हारे अधिकार में होते हो ख़र्च हो जाने के भय से तुम रोके ही रखते। वास्तव में इनसान तो दिल का बड़ा ही तंग है

English Sahih:

Say [to them], "If you possessed the depositories of the mercy of my Lord, then you would withhold out of fear of spending." And ever has man been stingy.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) इनसे कहो कि अगर मेरे परवरदिगार के रहमत के ख़ज़ाने भी तुम्हारे एख़तियार में होते तो भी तुम खर्च हो जाने के डर से (उनको) बन्द रखते और आदमी बड़ा ही तंग दिल है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

आप कह दें कि यदि तुमही स्वामी होते, अपने पालनहार की दया के कोषों के, तबतो तुम खर्च हो जाने के भय से (अपने ही पास) रोक रखते और मनुष्य बड़ा ही कंजूस है।