Skip to main content

अल इस्रा आयत १०९ | Al-Isra 17:109

And they fall
وَيَخِرُّونَ
और वो गिर पड़ते हैं
on their faces
لِلْأَذْقَانِ
ठोड़ियों के बल
weeping
يَبْكُونَ
रोते हुए
and it increases them
وَيَزِيدُهُمْ
और वो बढ़ा देता है उन्हें
(in) humility
خُشُوعًا۩
ख़ुशूअ में

Wayakhirroona lilathqani yabkoona wayazeeduhum khushoo'an

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और वे रोते हुए ठोड़ियों के बल गिर जाते है और वह (क़ुरआन) उनकी विनम्रता को और बढ़ा देता है

English Sahih:

And they fall upon their faces weeping, and it [i.e., the Quran] increases them in humble submission.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और ये लोग (सजदे के लिए) मुँह के बल गिर पड़तें हैं और रोते चले जाते हैं और ये क़ुरान उन की ख़ाकसारी के बढ़ाता जाता है (109) (सजदा)

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और वह मुँह के बल रोते हुए गिर जाते हैं और वह उनकी विनय को अधिक कर देता है।