Skip to main content

अल कहफ़ आयत २६ | Al-Kahf 18:26

Say
قُلِ
कह दीजिए
"Allah
ٱللَّهُ
अल्लाह
knows best
أَعْلَمُ
ज़्यादा जानता है
about what (period)
بِمَا
उसे जो
they remained
لَبِثُوا۟ۖ
वो ठहरे
For Him
لَهُۥ
उसी के लिए है
(is the) unseen
غَيْبُ
ग़ैब
(of) the heavens
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
and the earth
وَٱلْأَرْضِۖ
और ज़मीन का
How clearly He sees!
أَبْصِرْ
क्या ख़ूब देखने वाला है वो
[of it]
بِهِۦ
क्या ख़ूब देखने वाला है वो
And how clearly He hears!
وَأَسْمِعْۚ
और क्या ख़ूब सुनने वाला है
Not
مَا
नहीं
for them
لَهُم
उनके लिए
besides Him
مِّن
उसके सिवा
besides Him
دُونِهِۦ
उसके सिवा
any
مِن
कोई दोस्त
protector
وَلِىٍّ
कोई दोस्त
and not
وَلَا
और नहीं
He shares
يُشْرِكُ
वो शरीक करता
[in]
فِى
अपने हुक्म में
His Commands
حُكْمِهِۦٓ
अपने हुक्म में
(with) anyone"
أَحَدًا
किसी एक को

Quli Allahu a'lamu bima labithoo lahu ghaybu alssamawati waalardi absir bihi waasmi' ma lahum min doonihi min waliyyin wala yushriku fee hukmihi ahadan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

कह दो, 'अल्लाह भली-भाँति जानता है जितना वे ठहरे।' आकाशों और धरती की छिपी बात का सम्बन्ध उसी से है। वह क्या ही देखनेवाला और सुननेवाला है! उससे इतर न तो उनका कोई संरक्षक है और न वह अपने प्रभुत्व और सत्ता में किसी को साझीदार बनाता है

English Sahih:

Say, "Allah is most knowing of how long they remained. He has [knowledge of] the unseen [aspects] of the heavens and the earth. How Seeing is He and how Hearing! They have not besides Him any protector, and He shares not His legislation with anyone."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) अगर वह लोग इस पर भी न मानें तो तुम कह दो कि ख़ुदा उनके ठहरने की मुद्दत से बखूबी वाक़िफ है सारे आसमान और ज़मीन का ग़ैब उसी के वास्ते ख़ास है (अल्लाह हो अकबर) वो कैसा देखने वाला क्या ही सुनने वाला है उसके सिवा उन लोगों का कोई सरपरस्त नहीं और वह अपने हुक्म में किसी को अपना दख़ील (शरीक) नहीं बनाता

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

आप कह दें कि अल्लाह उनके रहने की अवधि से सर्वाधिक अवगत है। आकाशों तथा धरती का परोक्ष वही जानता है। क्या ही ख़ूब है वह देखने वाला और सुनने वाला। नहीं है उनका उसके सिवा कोई सहायक और न वह अपने शासन में किसी को साझी बनाता है।