Skip to main content

अल कहफ़ आयत २७ | Al-Kahf 18:27

And recite
وَٱتْلُ
और पढ़िए
what
مَآ
जो
has been revealed
أُوحِىَ
वही किया गया है
to you
إِلَيْكَ
तरफ़ आपके
of
مِن
किताब से
the Book
كِتَابِ
किताब से
(of) your Lord
رَبِّكَۖ
आपके रब की
None
لَا
नहीं
can change
مُبَدِّلَ
कोई बदलने वाला
His Words
لِكَلِمَٰتِهِۦ
उसके कलिमात को
and never
وَلَن
और हरगिज़ नहीं
you will find
تَجِدَ
आप पाऐंगे
besides Him
مِن
उसके सिवा
besides Him
دُونِهِۦ
उसके सिवा
a refuge
مُلْتَحَدًا
कोई पनाहगाह

Waotlu ma oohiya ilayka min kitabi rabbika la mubaddila likalimatihi walan tajida min doonihi multahadan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अपने रब की क़िताब, जो कुछ तुम्हारी ओर प्रकाशना (वह्यस) हुई, पढ़ो। कोई नहीं जो उनके बोलो को बदलनेवाला हो और न तुम उससे हटकर क शरण लेने की जगह पाओगे

English Sahih:

And recite, [O Muhammad], what has been revealed to you of the Book of your Lord. There is no changer of His words, and never will you find in other than Him a refuge.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (ऐ रसूल) जो किताब तुम्हारे परवरदिगार की तरफ से वही के ज़रिए से नाज़िल हुईहै उसको पढ़ा करो उसकी बातों को कोई बदल नहीं सकता और तुम उसके सिवा कहीं कोई हरगिज़ पनाह की जगह (भी) न पाओगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और आप उसे सुना दें, जो आपकी ओर वह़्यी (प्रकाशना) की गयी है, आपके पालनहार की पुस्तक में से, उसकी बातों को कोई बदलने वाला नहीं है और आप कदापि नहीं पायेंगे उसके सिवा कोई शरण स्थान।