Skip to main content

अल बकराह आयत १०६ | Al-Baqrah 2:106

What
مَا
जो भी
We abrogate
نَنسَخْ
हम मनसूख़ करते हैं
(of)
مِنْ
कोई आयत
a sign
ءَايَةٍ
कोई आयत
or
أَوْ
या
[We] cause it to be forgotten
نُنسِهَا
हम भुलवा देते हैं उसे
We bring
نَأْتِ
हम ले आते हैं
better
بِخَيْرٍ
बेहतर
than it
مِّنْهَآ
उससे
or
أَوْ
या
similar (to) it
مِثْلِهَآۗ
उस जैसी
Do not
أَلَمْ
क्या नहीं
you know
تَعْلَمْ
आपने जाना
that
أَنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
over
عَلَىٰ
ऊपर
every
كُلِّ
हर
thing
شَىْءٍ
चीज़ के
(is) All-Powerful?
قَدِيرٌ
बहुत क़ुदरत रखने वाला है

Ma nansakh min ayatin aw nunsiha nati bikhayrin minha aw mithliha alam ta'lam anna Allaha 'ala kulli shayin qadeerun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

हम जिस आयत (और निशान) को भी मिटा दें या उसे भुला देते है, तो उससे बेहतर लाते है या उस जैसा दूसरा ही। क्या तुम नहीं जानते हो कि अल्लाह को हर चीज़ का सामर्थ्य प्राप्त है?

English Sahih:

We do not abrogate a verse or cause it to be forgotten except that We bring forth [one] better than it or similar to it. Do you not know that Allah is over all things competent?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) हम जब कोई आयत मन्सूख़ करते हैं या तुम्हारे ज़ेहन से मिटा देते हैं तो उससे बेहतर या वैसी ही (और) नाज़िल भी कर देते हैं क्या तुम नहीं जानते कि बेशुबहा खुदा हर चीज़ पर क़ादिर है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

हम अपनी कोई आयत निरस्त कर देते अथवा भुला देते हैं, तो उससे उत्तम अथवा उसके समान लाते हैं। क्या तुम नहीं जानते कि अल्लाह जो चाहे[1], कर सकता है?