Skip to main content

अल बकराह आयत १११ | Al-Baqrah 2:111

And they said
وَقَالُوا۟
और उन्होंने कहा
"Never
لَن
हरगिज़ नहीं
will enter
يَدْخُلَ
दाख़िल होगा
the Paradise
ٱلْجَنَّةَ
जन्नत में
except
إِلَّا
मगर
who
مَن
वो जो
is
كَانَ
हो
(a) Jew[s]
هُودًا
यहूदी
or
أَوْ
या
(a) Christian[s]"
نَصَٰرَىٰۗ
नस्रानी
That
تِلْكَ
ये
(is) their wishful thinking
أَمَانِيُّهُمْۗ
तमन्नाऐं हैं उनकी
Say
قُلْ
कह दीजिए
"Bring
هَاتُوا۟
ले आओ
your proof
بُرْهَٰنَكُمْ
दलील अपनी
if
إِن
अगर
you are
كُنتُمْ
हो तुम
[those who are] truthful"
صَٰدِقِينَ
सच्चे

Waqaloo lan yadkhula aljannata illa man kana hoodan aw nasara tilka amaniyyuhum qul hatoo burhanakum in kuntum sadiqeena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और उनका कहना है, 'कोई व्यक्ति जन्नत में प्रवेश नहीं करता सिवाय उससे जो यहूदी है या ईसाई है।' ये उनकी अपनी निराधार कामनाएँ है। कहो, 'यदि तुम सच्चे हो तो अपने प्रमाण पेश करो।'

English Sahih:

And they say, "None will enter Paradise except one who is a Jew or a Christian." That is [merely] their wishful thinking. Say, "Produce your proof, if you should be truthful."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (यहूद) कहते हैं कि यहूद (के सिवा) और (नसारा कहते हैं कि) नसारा के सिवा कोई बेहिश्त में जाने ही न पाएगा ये उनके ख्याली पुलाव है (ऐ रसूल) तुम उन से कहो कि भला अगर तुम सच्चे हो कि हम ही बेहिश्त में जाएँगे तो अपनी दलील पेश करो

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा उन्होंने कहा कि कोई स्वर्ग में कदापि नहीं जायेगा, जब तक यहूदी अथवा नसारा[1] (ईसाई) न हो। ये उनकी कामनायें हैं। उनसे कहो कि यदि तुम सत्यवादी हो, तो कोई प्रमाण प्रस्तुत करो।