Skip to main content

अल बकराह आयत ११५ | Al-Baqrah 2:115

And for Allah
وَلِلَّهِ
और अल्लाह ही के लिए हैं
(is) the east
ٱلْمَشْرِقُ
मशरिक़
and the west
وَٱلْمَغْرِبُۚ
और मग़रिब
so wherever
فَأَيْنَمَا
फिर जिस तरफ़
you turn
تُوَلُّوا۟
तुम मुँह करोगे
[so] there
فَثَمَّ
तो वहीं है
(is the) face
وَجْهُ
चेहरा
(of) Allah
ٱللَّهِۚ
अल्लाह का
Indeed
إِنَّ
बेशक
Allah
ٱللَّهَ
अल्लाह
(is) All-Encompassing
وَٰسِعٌ
वुसअत वाला है
All-Knowing
عَلِيمٌ
ख़ूब जानने वाला है

Walillahi almashriqu waalmaghribu faaynama tuwalloo fathamma wajhu Allahi inna Allaha wasi'un 'aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

पूरब और पश्चिम अल्लाह ही के है, अतः जिस ओर भी तुम रुख करो उसी ओर अल्लाह का रुख़ है। निस्संदेह अल्लाह बड़ा समाईवाला (सर्वव्यापी) सर्वज्ञ है

English Sahih:

And to Allah belongs the east and the west. So wherever you [might] turn, there is the Face of Allah. Indeed, Allah is all-Encompassing and Knowing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(तुम्हारे मसजिद में रोकने से क्या होता है क्योंकि सारी ज़मीन) खुदा ही की है (क्या) पूरब (क्या) पश्चिम बस जहाँ कहीं क़िब्ले की तरफ रूख़ करो वही खुदा का सामना है बेशक खुदा बड़ी गुन्जाइश वाला और खूब वाक़िफ है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा पूर्व और पश्चिम अल्लाह ही के हैं; तुम जिधर भी मुख करो[1], उधर ही अल्लाह का मुख है और अल्लाह विशाल अति ज्ञानी है।