Skip to main content

अत-तहा आयत ४७ | At-Tahaa 20:47

So go to him
فَأْتِيَاهُ
पस दोनों जाओ उसके पास
and say
فَقُولَآ
फिर दोनों कहो
"Indeed, we
إِنَّا
बेशक हम
both (are) Messengers
رَسُولَا
रसूल हैं
(of) your Lord
رَبِّكَ
तेरे रब के
so send
فَأَرْسِلْ
पस भेज दे
with us
مَعَنَا
साथ हमारे
(the) Children of Israel
بَنِىٓ
बनी इस्राईल को
(the) Children of Israel
إِسْرَٰٓءِيلَ
बनी इस्राईल को
and (do) not
وَلَا
और ना
torment them
تُعَذِّبْهُمْۖ
तो अज़ाब दे उन्हें
Verily
قَدْ
तहक़ीक़
we came to you
جِئْنَٰكَ
लाए हैं हम तेरे पास
with a Sign
بِـَٔايَةٍ
निशानी
from
مِّن
तेरे रब की तरफ़ से
your Lord
رَّبِّكَۖ
तेरे रब की तरफ़ से
And peace
وَٱلسَّلَٰمُ
और सलाम है
on
عَلَىٰ
उस पर जो
(one) who
مَنِ
उस पर जो
follows
ٱتَّبَعَ
पैरवी करे
the Guidance
ٱلْهُدَىٰٓ
हिदायत की

Fatiyahu faqoola inna rasoola rabbika faarsil ma'ana banee israeela wala tu'aththibhum qad jinaka biayatin min rabbika waalssalamu 'ala mani ittaba'a alhuda

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अतः जाओ, उसके पास और कहो, हम तेरे रब के रसूल है। इसराईल की सन्तान को हमारे साथ भेज दे। और उन्हें यातना न दे। हम तेरे पास तेरे रब की निशानी लेकर आए है। और सलामती है उसके लिए जो संमार्ग का अनुसरण करे!

English Sahih:

So go to him and say, 'Indeed, we are messengers of your Lord, so send with us the Children of Israel and do not torment them. We have come to you with a sign from your Lord. And peace will be upon he who follows the guidance.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ग़रज़ तुम दोनों उसके पास जाओ और कहो कि हम आप के परवरदिगार के रसूल हैं तो बनी इसराइल को हमारे साथ भेज दीजिए और उन्हें सताइए नहीं हम आपके पास आपके परवरदिगार का मौजिज़ा लेकर आए हैं और जो राहे रास्त की पैरवी करे उसी के लिए सलामती है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तुम उसके पास जाओ और कहो कि हम तेरे पालनहार के रसूल हैं। अतः, हमारे साथ बनी इस्राईल को जाने दे और उन्हें यातना न दे, हम तेरे पास तेरे पालनहार की निशानी लाये हैं और शान्ति उसके लिए है, जो मार्गदर्शन का अनुसरण करे।