Skip to main content

अल-अम्बिया आयत १०५ | Al-Ambiya 21:105

And verily
وَلَقَدْ
और अलबत्ता तहक़ीक़
We have written
كَتَبْنَا
लिख दिया हमने
in
فِى
ज़बूर में
the Scripture
ٱلزَّبُورِ
ज़बूर में
after
مِنۢ
बाद ज़िक्र के
after
بَعْدِ
बाद ज़िक्र के
the mention
ٱلذِّكْرِ
बाद ज़िक्र के
that
أَنَّ
कि बेशक
the earth
ٱلْأَرْضَ
ज़मीन
will inherit it
يَرِثُهَا
वारिस होंगे उसके
My slaves
عِبَادِىَ
मेरे बन्दे
the righteous
ٱلصَّٰلِحُونَ
जो नेक हैं

Walaqad katabna fee alzzaboori min ba'di alththikri anna alarda yarithuha 'ibadiya alssalihoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और हम ज़बूर में याददिहानी के पश्चात लिए चुके है कि 'धरती के वारिस मेरे अच्छे बन्दें होंगे।'

English Sahih:

And We have already written in the book [of Psalms] after the [previous] mention that the land [of Paradise] is inherited by My righteous servants.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और हमने तो नसीहत (तौरेत) के बाद यक़ीनन जुबूर में लिख ही दिया था कि रूए ज़मीन के वारिस हमारे नेक बन्दे होंगे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा हमने लिख दिया है ज़बूर[1] में शिक्षा के पश्चात् कि धरती के उत्तराधिकारी मेरे सदाचारी भक्त होंगे।