Skip to main content

अन-नूर आयत २८ | An-Noor 24:28

But if
فَإِن
फिर अगर
not
لَّمْ
ना
you find
تَجِدُوا۟
तुम पाओ
in it
فِيهَآ
उनमें
anyone
أَحَدًا
किसी एक को
then (do) not
فَلَا
तो ना
enter it
تَدْخُلُوهَا
तुम दाख़िल हो उनमें
until
حَتَّىٰ
यहाँ तक कि
permission has been given
يُؤْذَنَ
इजाज़त दे दी जाए
to you
لَكُمْۖ
तुम्हें
And if
وَإِن
और अगर
it is said
قِيلَ
कहा जाए
to you
لَكُمُ
तुम्हें
"Go back"
ٱرْجِعُوا۟
वापस जाओ
then go back;
فَٱرْجِعُوا۟ۖ
तो वापस चले जाओ
it
هُوَ
वो
(is) purer
أَزْكَىٰ
ज़्यादा पाकीज़ा है
for you
لَكُمْۚ
तुम्हारे लिए
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
of what
بِمَا
उसे जो
you do
تَعْمَلُونَ
तुम अमल करते हो
(is) All-Knower
عَلِيمٌ
ख़ूब जानने वाला है

Fain lam tajidoo feeha ahadan fala tadkhulooha hatta yuthana lakum wain qeela lakumu irji'oo fairji'oo huwa azka lakum waAllahu bima ta'maloona 'aleemun

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

फिर यदि उनमें किसी को न पाओ, तो उनमें प्रवेश न करो जब तक कि तुम्हें अनुमति प्राप्त न हो। और यदि तुमसे कहा जाए कि वापस हो जाओ तो वापस हो जाओ, यही तुम्हारे लिए अधिक अच्छी बात है। अल्लाह भली-भाँति जानता है जो कुछ तुम करते हो

English Sahih:

And if you do not find anyone therein, do not enter them until permission has been given you. And if it is said to you, "Go back," then go back; it is purer for you. And Allah is Knowing of what you do.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ये नसीहत इसलिए है) ताकि तुम याद रखो पस अगर तुम उन घरों में किसी को न पाओ तो तावाक़फियत कि तुम को (ख़ास तौर पर) इजाज़त न हासिल हो जाए उन में न जाओ और अगर तुम से कहा जाए कि फिर जाओ तो तुम (बे ताम्मुल) फिर जाओ यही तुम्हारे वास्ते ज्यादा सफाई की बात है और तुम जो कुछ भी करते हो ख़ुदा उससे खूब वाकिफ़ है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और यदि, उनमें किसी को न पाओ, तो उनमें प्रवेश न करो, यहाँ तक कि तुम्हें अनुमति दे दी जाये और यदि, तुमसे कहा जाये कि वापस हो जाओ, तो वापस हो जाओ, ये तुम्हारे लिए अधिक पवित्र है तथा अल्लाह जो कुछ तुम करते हो, भली-भाँति जानने वाला है।