Skip to main content

अल-फुरकान आयत २९ | Al-Furqan 25:29

Verily
لَّقَدْ
अलबत्ता तहक़ीक़
he led me astray
أَضَلَّنِى
उसने भटका दिया मुझे
from
عَنِ
ज़िक्र (क़ुरआन) से
the Reminder
ٱلذِّكْرِ
ज़िक्र (क़ुरआन) से
after
بَعْدَ
बाद इसके कि
[when]
إِذْ
जब
it (had) come to me
جَآءَنِىۗ
वो आया मेरे पास
And is
وَكَانَ
और है
the Shaitaan
ٱلشَّيْطَٰنُ
शैतान
to the man
لِلْإِنسَٰنِ
इन्सान को
a deserter"
خَذُولًا
छोड़ देने वाला

Laqad adallanee 'ani alththikri ba'da ith jaanee wakana alshshaytanu lilinsani khathoolan

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उसने मुझे भटकाकर अनुस्मृति से विमुख कर दिया, इसके पश्चात कि वह मेरे पास आ चुकी थी। शैतान तो समय पर मनुष्य का साथ छोड़ ही देता है।'

English Sahih:

He led me away from the remembrance after it had come to me. And ever is Satan, to man, a deserter."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

बेशक यक़ीनन उसने हमारे पास नसीहत आने के बाद मुझे बहकाया और शैतान तो आदमी को रुसवा करने वाला ही है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

उसने मुझे कुपथ कर दिया शिक्षा (क़ुर्आन) से, इसके पश्चात् कि मेरे पास आयी और शैतान मनुष्य को (समय पर) धोखा देने वाला है।