Skip to main content
bismillah
تَبَارَكَ
बहुत बाबरकत है
ٱلَّذِى
वो जिसने
نَزَّلَ
नाज़िल किया
ٱلْفُرْقَانَ
फ़ुरक़ान
عَلَىٰ
अपने बन्दे पर
عَبْدِهِۦ
अपने बन्दे पर
لِيَكُونَ
ताकि वो हो जाए
لِلْعَٰلَمِينَ
तमाम जहान वालों के लिए
نَذِيرًا
डराने वाला

Tabaraka allathee nazzala alfurqana 'ala 'abdihi liyakoona lil'alameena natheeran

बड़ी बरकतवाला है वह जिसने यह फ़ुरक़ान अपने बन्दे पर अवतरित किया, ताकि वह सारे संसार के लिए सावधान करनेवाला हो

Tafseer (तफ़सीर )
ٱلَّذِى
वो जो
لَهُۥ
उसी के लिए है
مُلْكُ
बादशाहत
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों
وَٱلْأَرْضِ
और ज़मीन की
وَلَمْ
और नहीं
يَتَّخِذْ
उसने बनाई
وَلَدًا
कोई औलाद
وَلَمْ
और नहीं
يَكُن
है
لَّهُۥ
उसके लिए
شَرِيكٌ
कोई शरीक
فِى
बादशाहत में
ٱلْمُلْكِ
बादशाहत में
وَخَلَقَ
और उसने पैदा किया
كُلَّ
हर
شَىْءٍ
चीज़ को
فَقَدَّرَهُۥ
पस उसने अन्दाज़ा किया उसका
تَقْدِيرًا
अन्दाज़ा करना

Allathee lahu mulku alssamawati waalardi walam yattakhith waladan walam yakun lahu shareekun fee almulki wakhalaqa kulla shayin faqaddarahu taqdeeran

वह जिसका राज्य है आकाशों और धरती पर, और उसने न तो किसी को अपना बेटा बनाया और न राज्य में उसका कोई साझी है। उसने हर चीज़ को पैदा किया; फिर उसे ठीक अन्दाजें पर रखा

Tafseer (तफ़सीर )
وَٱتَّخَذُوا۟
और उन्होंने बना लिए
مِن
उसके सिवा
دُونِهِۦٓ
उसके सिवा
ءَالِهَةً
कुछ इलाह
لَّا
नहीं वो पैदा करते
يَخْلُقُونَ
नहीं वो पैदा करते
شَيْـًٔا
कोई चीज़
وَهُمْ
और वो
يُخْلَقُونَ
वो पैदा किए जाते हैं
وَلَا
और नहीं
يَمْلِكُونَ
वो इख़्तियार रखते
لِأَنفُسِهِمْ
अपने नफ़्सों के लिए
ضَرًّا
किसी नुक़्सान का
وَلَا
और ना
نَفْعًا
किसी नफ़ा का
وَلَا
और नहीं
يَمْلِكُونَ
वो इख़्तियार रखते
مَوْتًا
मौत का
وَلَا
और ना
حَيَوٰةً
ज़िन्दगी का
وَلَا
और ना
نُشُورًا
दोबारा जी उठने का

Waittakhathoo min doonihi alihatan la yakhluqoona shayan wahum yukhlaqoona wala yamlikoona lianfusihim darran wala naf'an wala yamlikoona mawtan wala hayatan wala nushooran

फिर भी उन्होंने उससे हटकर ऐसे इष्ट -पूज्य बना लिए जो किसी चीज़ को पैदा नहीं करते, बल्कि वे स्वयं पैदा किए जाते है। उन्हें न तो अपनी हानि का अधिकार प्राप्त है और न लाभ का। और न उन्हें मृत्यु का अधिकार प्राप्त है और न जीवन का और न दोबारा जीवित होकर उठने का

Tafseer (तफ़सीर )
وَقَالَ
और कहा
ٱلَّذِينَ
उन लोगों ने जिन्होंने
كَفَرُوٓا۟
कुफ़्र किया
إِنْ
नहीं
هَٰذَآ
ये (क़ुरआन)
إِلَّآ
मगर
إِفْكٌ
एक झूठ
ٱفْتَرَىٰهُ
उसने गढ़ लिया उसे
وَأَعَانَهُۥ
और मदद की उसकी
عَلَيْهِ
उस पर
قَوْمٌ
एक दूसरी क़ौम ने
ءَاخَرُونَۖ
एक दूसरी क़ौम ने
فَقَدْ
पस तहक़ीक़
جَآءُو
वो लाए
ظُلْمًا
ज़ुल्म
وَزُورًا
और झूठ

Waqala allatheena kafaroo in hatha illa ifkun iftarahu waa'anahu 'alayhi qawmun akharoona faqad jaoo thulman wazooran

जिन लोगों ने इनकार किया उनका कहना है, 'यह तो बस मनघड़ंत है जो उसने स्वयं ही घड़ लिया है। और कुछ दूसरे लोगों ने इस काम में उसकी सहायता की है।' वे तो ज़ुल्म और झूठ ही के ध्येय से आए

Tafseer (तफ़सीर )
وَقَالُوٓا۟
और उन्होंने कहा
أَسَٰطِيرُ
कहानियाँ हैं
ٱلْأَوَّلِينَ
पहलों की
ٱكْتَتَبَهَا
उसने लिखवा लिया है उन्हें
فَهِىَ
तो वो
تُمْلَىٰ
वो इमला की जाती हैं
عَلَيْهِ
उस पर
بُكْرَةً
सुबह
وَأَصِيلًا
और शाम

Waqaloo asateeru alawwaleena iktatabaha fahiya tumla 'alayhi bukratan waaseelan

कहते है, 'ये अगलों की कहानियाँ है, जिनको उसने लिख लिया है तो वही उसके पास प्रभात काल और सन्ध्या समय लिखाई जाती है।'

Tafseer (तफ़सीर )
قُلْ
कह दीजिए
أَنزَلَهُ
नाज़िल किया है उसे
ٱلَّذِى
उसने जो
يَعْلَمُ
जानता है
ٱلسِّرَّ
छुपी बात को
فِى
आसमानों में
ٱلسَّمَٰوَٰتِ
आसमानों में
وَٱلْأَرْضِۚ
और ज़मीन में
إِنَّهُۥ
बेशक वो
كَانَ
है वो
غَفُورًا
बहुत बख़्शने वाला
رَّحِيمًا
निहायत रहम करने वाला

Qul anzalahu allathee ya'lamu alssirra fee alssamawati waalardi innahu kana ghafooran raheeman

कहो, 'उसे अवतरित किया है उसने, जो आकाशों और धरती के रहस्य जानता है। निश्चय ही वह बहुत क्षमाशील, अत्यन्त दयावान है।'

Tafseer (तफ़सीर )
وَقَالُوا۟
और उन्होंने कहा
مَالِ
क्या है
هَٰذَا
इस
ٱلرَّسُولِ
रसूल को
يَأْكُلُ
कि वो खाता है
ٱلطَّعَامَ
खाना
وَيَمْشِى
और वो चलता है
فِى
बाज़ारों में
ٱلْأَسْوَاقِۙ
बाज़ारों में
لَوْلَآ
क्यों नहीं
أُنزِلَ
उतारा गया
إِلَيْهِ
इस पर
مَلَكٌ
कोई फ़रिश्ता
فَيَكُونَ
तो वो होता
مَعَهُۥ
साथ उसके
نَذِيرًا
डराने वाला

Waqaloo mali hatha alrrasooli yakulu altta'ama wayamshee fee alaswaqi lawla onzila ilayhi malakun fayakoona ma'ahu natheeran

उनका यह भी कहना है, 'इस रसूल को क्या हुआ कि यह खाना खाता है और बाज़ारों में चलता-फिरता है? क्यों न इसकी ओर कोई फ़रिश्ता उतरा कि वह इसके साथ रहकर सावधान करता?

Tafseer (तफ़सीर )
أَوْ
या
يُلْقَىٰٓ
डाला जाता
إِلَيْهِ
तरफ़ उसके
كَنزٌ
कोई ख़ज़ाना
أَوْ
या
تَكُونُ
होता
لَهُۥ
उसके लिए
جَنَّةٌ
कोई बाग़
يَأْكُلُ
वो खाता
مِنْهَاۚ
उसमें से
وَقَالَ
और कहा
ٱلظَّٰلِمُونَ
ज़लिमों ने
إِن
नहीं
تَتَّبِعُونَ
तुम पैरवी करते
إِلَّا
मगर
رَجُلًا
एक मर्द की
مَّسْحُورًا
जो सहरज़दा है

Aw yulqa ilayhi kanzun aw takoonu lahu jannatun yakulu minha waqala alththalimoona in tattabi'oona illa rajulan mashooran

या इसकी ओर कोई ख़ज़ाना ही डाल दिया जाता या इसके पास कोई बाग़ होता, जिससे यह खाता।' और इन ज़ालिमों का कहना है, 'तुम लोग तो बस एक ऐसे व्यक्ति के पीछे चल रहे हो जो जादू का मारा हुआ है!'

Tafseer (तफ़सीर )
ٱنظُرْ
देखो
كَيْفَ
किस तरह
ضَرَبُوا۟
उन्होंने बयान कीं
لَكَ
आपके लिए
ٱلْأَمْثَٰلَ
मिसालें
فَضَلُّوا۟
तो वो भटक गए
فَلَا
पस नहीं
يَسْتَطِيعُونَ
वो इस्तिताअत रखते
سَبِيلًا
रास्ते की

Onthur kayfa daraboo laka alamthala fadalloo fala yastatee'oona sabeelan

देखों, उन्होंने तुमपर कैसी-कैसी फब्तियाँ कसीं। तो वे बहक गए है। अब उनमें इसकी सामर्थ्य नहीं कि कोई मार्ग पा सकें!

Tafseer (तफ़सीर )
تَبَارَكَ
बहुत बाबरकत है
ٱلَّذِىٓ
वो जो
إِن
अगर
شَآءَ
वो चाहे
جَعَلَ
वो बना दे
لَكَ
आपके लिए
خَيْرًا
बेहतर
مِّن
उस से
ذَٰلِكَ
उस से
جَنَّٰتٍ
बाग़ात
تَجْرِى
बहती हों
مِن
उनके नीचे से
تَحْتِهَا
उनके नीचे से
ٱلْأَنْهَٰرُ
नहरें
وَيَجْعَل
और वो बना दे
لَّكَ
आपके लिए
قُصُورًۢا
महल्लात

Tabaraka allathee in shaa ja'ala laka khayran min thalika jannatin tajree min tahtiha alanharu wayaj'al laka qusooran

बरकतवाला है वह जो यदि चाहे तो तुम्हारे लिए इससे भी उत्तम प्रदान करे, बहत-से बाग़ जिनके नीचे नहरें बह रही हों, और तुम्हारे लिए बहुत-से महल तैया कर दे

Tafseer (तफ़सीर )
कुरान की जानकारी :
अल-फुरकान
القرآن الكريم:الفرقان
आयत सजदा (سجدة):60
सूरा (latin):Al-Furqan
सूरा:25
कुल आयत:77
कुल शब्द:892
कुल वर्ण:3730
रुकु:6
वर्गीकरण:मक्कन सूरा
Revelation Order:42
से शुरू आयत:2855