Skip to main content

अल-फुरकान आयत ४८ | Al-Furqan 25:48

And He
وَهُوَ
और वो ही है
(is) the One Who
ٱلَّذِىٓ
जिसने
sends
أَرْسَلَ
भेजा
the winds
ٱلرِّيَٰحَ
हवाओं को
(as) glad tidings
بُشْرًۢا
ख़ुशख़बरी बना कर
before
بَيْنَ
आगे-आगे
before
يَدَىْ
अपनी रहमत के
His Mercy
رَحْمَتِهِۦۚ
अपनी रहमत के
and We send down
وَأَنزَلْنَا
और उतारा हमने
from
مِنَ
आसमान से
the sky
ٱلسَّمَآءِ
आसमान से
water
مَآءً
पानी
pure
طَهُورًا
पाक

Wahuwa allathee arsala alrriyaha bushran bayna yaday rahmatihi waanzalna mina alssamai maan tahooran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और वही है जिसने अपनी दयालुता (वर्षा) के आगे-आगे हवाओं को शुभ सूचना बनाकर भेजता है, और हम ही आकाश से स्वच्छ जल उतारते है

English Sahih:

And it is He who sends the winds as good tidings before His mercy [i.e., rainfall], and We send down from the sky pure water.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और वही तो वह (ख़ुदा) है जिसने अपनी रहमत (बारिश) के आगे आगे हवाओं को खुश ख़बरी देने के लिए (पेश ख़ेमा बना के) भेजा और हम ही ने आसमान से बहुत पाक और सुथरा हुआ पानी बरसाया

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा वही है, जिसने वायुयों को भेजा शुभ सूचना बनाकर, अपनी दया (वर्षा) से पूर्व तथा हमने आकाश से स्वच्छ जल बरसाया।