Skip to main content

अस-शुआरा आयत १५२ | Ash-Shu’ara 26:152

Those who
ٱلَّذِينَ
वो जो
spread corruption
يُفْسِدُونَ
फ़साद करते हैं
in
فِى
ज़मीन में
the earth
ٱلْأَرْضِ
ज़मीन में
and (do) not
وَلَا
और नहीं
reform"
يُصْلِحُونَ
वो इस्लाह करते

Allatheena yufsidoona fee alardi wala yuslihoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

जो धरती में बिगाड़ पैदा करते है, और सुधार का काम नहीं करते।'

English Sahih:

Who cause corruption in the land and do not amend."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

जो रुए ज़मीन पर फ़साद फैलाया करते हैं और (ख़राबियों की) इसलाह नहीं करते

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

जो उपद्रव करते हैं धरती में और सुधार नहीं करते।