Skip to main content

अल-क़सस आयत ४५ | Al-Qasas 28:45

But We
وَلَٰكِنَّآ
और लेकिन हम
[We] produced
أَنشَأْنَا
उठाईं हमने
generations
قُرُونًا
उम्मतें
and prolonged
فَتَطَاوَلَ
तो तवील हो गई
for them
عَلَيْهِمُ
उन पर
the life
ٱلْعُمُرُۚ
मुद्दत
And not
وَمَا
और ना
you were
كُنتَ
थे आप
a dweller
ثَاوِيًا
मुक़ीम
among
فِىٓ
अहले मदयन में
(the) people
أَهْلِ
अहले मदयन में
(of) Madyan
مَدْيَنَ
अहले मदयन में
reciting
تَتْلُوا۟
कि आप पढ़ते
to them
عَلَيْهِمْ
उन पर
Our Verses
ءَايَٰتِنَا
आयात हमारी
but We
وَلَٰكِنَّا
और लेकिन हम
[We] were
كُنَّا
थे हम ही
the Senders
مُرْسِلِينَ
भेजने वाले

Walakinna anshana quroonan fatatawala 'alayhimu al'umuru wama kunta thawiyan fee ahli madyana tatloo 'alayhim ayatina walakinna kunna mursileena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

लेकिन हमने बहुत-सी नस्लें उठाईं और उनपर बहुत समय बीत गया। और न तुम मदयनवालों में रहते थे कि उन्हें हमारी आयतें सुना रहे होते, किन्तु रसूलों को भेजनेवाले हम ही रहे है

English Sahih:

But We produced [many] generations [after Moses], and prolonged was their duration. And you were not a resident among the people of Madyan, reciting to them Our verses, but We were senders [of this message].

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

मगर हमने (मूसा के बाद) बहुतेरी उम्मतें पैदा की फिर उन पर एक ज़माना दराज़ गुज़र गया और न तुम मदैन के लोगों में रहे थे कि उनके सामने हमारी आयते पढ़ते (और न तुम को उन के हालात मालूम होते) मगर हम तो (तुमको) पैग़म्बर बनाकर भेजने वाले थे

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

परन्तु (आपके समय तक) हमने बहुत-से समुदायों को पैदा किया, फिर उनपर लम्बी अवधि बीत गयी तथा आप उपस्थित न थे मद्यन के वासियों में कि सुनाते उन्हें हमारी आयतें और परन्तु हमभी रसूलों को भेजने[1] वाले हैं।