Skip to main content

अल-अनकबूत आयत ६८ | Al-Ankabut 29:68

And who
وَمَنْ
और कौन
(is) more unjust
أَظْلَمُ
बड़ा ज़ालिम है
than (he) who
مِمَّنِ
उससे जो
invents
ٱفْتَرَىٰ
गढ़ ले
against
عَلَى
अल्लाह पर
Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह पर
a lie
كَذِبًا
झूठ
or
أَوْ
या
denies
كَذَّبَ
वो झुठलाए
the truth
بِٱلْحَقِّ
हक़ को
when
لَمَّا
जब कि
it has come to him
جَآءَهُۥٓۚ
वो आ जाए उसके पास
Is there not
أَلَيْسَ
क्या नहीं है
in
فِى
जहन्नम में
Hell
جَهَنَّمَ
जहन्नम में
an abode
مَثْوًى
ठिकाना
for the disbelievers?
لِّلْكَٰفِرِينَ
काफ़िरों के लिए

Waman athlamu mimmani iftara 'ala Allahi kathiban aw kaththaba bialhaqqi lamma jaahu alaysa fee jahannama mathwan lilkafireena

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

उस व्यक्ति से बढ़कर ज़ालिम कौन होगा जो अल्लाह पर थोपकर झूठ घड़े या सत्य को झुठलाए, जबकि वह उसके पास आ चुका हो? क्या इनकार करनेवालों का ठौर-ठिकाना जहन्नम नें नहीं होगा?

English Sahih:

And who is more unjust than one who invents a lie about Allah or denies the truth when it has come to him? Is there not in Hell a [sufficient] residence for the disbelievers?

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और जो शख्स ख़ुदा पर झूठ बोहतान बॉधे या जब उसके पास कोई सच्ची बात आए तो झुठला दे इससे बढ़कर ज़ालिम कौन होगा क्या (इन) काफिरों का ठिकाना जहन्नुम में नहीं है (ज़रुर है)

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तथा कौन अधिक अत्याचारी होगा उससे, जो अल्लाह पर झूठ घड़े या झूठ कहे सच को, जब उसके पास आ जाये, तो क्या नहीं होगा नरक में आवास काफ़िरों को?