Skip to main content

आले इमरान आयत १३ | Aal-e-Imran 3:13

Surely
قَدْ
तहक़ीक़
it was
كَانَ
है
for you
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
a sign
ءَايَةٌ
एक निशानी
in
فِى
दो गिरोहों में
(the) two hosts
فِئَتَيْنِ
दो गिरोहों में
which met
ٱلْتَقَتَاۖ
जो आमने सामने हुए
one group
فِئَةٌ
एक गिरोह
fighting
تُقَٰتِلُ
वो लड़ रहा था
in
فِى
अल्लाह के रास्ते में
(the) way
سَبِيلِ
अल्लाह के रास्ते में
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह के रास्ते में
and another
وَأُخْرَىٰ
और दूसरा
disbelievers
كَافِرَةٌ
काफ़िर था
They were seeing them
يَرَوْنَهُم
वो देख रहे थे उन्हें
twice of them
مِّثْلَيْهِمْ
दोगुना अपने से
with the sight
رَأْىَ
देखना
(of) their eyes
ٱلْعَيْنِۚ
आँख का
And Allah
وَٱللَّهُ
और अल्लाह
supports
يُؤَيِّدُ
ताईद करता है
with His help
بِنَصْرِهِۦ
अपनी मदद से
whom
مَن
जिसकी
He wills
يَشَآءُۗ
वो चाहता है
Indeed
إِنَّ
बेशक
in
فِى
उसमें
that
ذَٰلِكَ
उसमें
surely (is) a lesson
لَعِبْرَةً
अलबत्ता इबरत है
for the owners
لِّأُو۟لِى
अहले बसीरत के लिए
(of) vision
ٱلْأَبْصَٰرِ
अहले बसीरत के लिए

Qad kana lakum ayatun fee fiatayni iltaqata fiatun tuqatilu fee sabeeli Allahi waokhra kafiratun yarawnahum mithlayhim raya al'ayni waAllahu yuayyidu binasrihi man yashao inna fee thalika la'ibratan liolee alabsari

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

तुम्हारे लिए उन दोनों गिरोहों में एक निशानी है जो (बद्र की) लड़ाई में एक-दूसरे के मुक़ाबिल हुए। एक गिरोह अल्लाह के मार्ग में लड़ रहा था, जबकि दूसरा विधर्मी था। ये अपनी आँखों देख रहे थे कि वे उनसे दुगने है। अल्लाह अपनी सहायता से जिसे चाहता है, शक्ति प्रदान करता है। दृष्टिवान लोगों के लिए इसमें बड़ी शिक्षा-सामग्री है

English Sahih:

Already there has been for you a sign in the two armies which met [in combat at Badr] – one fighting in the cause of Allah and another of disbelievers. They saw them [to be] twice their [own] number by [their] eyesight. But Allah supports with His victory whom He wills. Indeed in that is a lesson for those of vision.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

बेशक तुम्हारे (समझाने के) वास्ते उन दो (मुख़ालिफ़ गिरोहों में जो (बद्र की लड़ाई में) एक दूसरे के साथ गुथ गए (रसूल की सच्चाई की) बड़ी भारी निशानी है कि एक गिरोह ख़ुदा की राह में जेहाद करता था और दूसरा काफ़िरों का जिनको मुसलमान अपनी ऑख से दुगना देख रहे थे (मगर ख़ुदा ने क़लील ही को फ़तह दी) और ख़ुदा अपनी मदद से जिस की चाहता है ताईद करता है बेशक ऑख वालों के वास्ते इस वाक़ये में बड़ी इबरत है

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वास्तव में, तुम्हारे लिए उन दो दलों में, जो (बद्र में) सम्मुख हो गये, एक निशानी थी; एक अल्लाह की राह में युध्द कर रहा था तथा दूसरा काफ़िर था, वे (अर्थात काफ़िर गिरोह के लोग) अपनी आँखों से देख रहे थे कि ये (मुसलमान) तो दुगने लग रहे हैं तथा अल्लाह अपनी सहायता द्वारा जिसे चाहे, समर्थन देता है। निःसंदेह इसमें समझ-बूझ वालों के लिए बड़ी शिक्षा[1] है।