Skip to main content

आले इमरान आयत २३ | Aal-e-Imran 3:23

Have not
أَلَمْ
क्या नहीं
you seen
تَرَ
आपने देखा
[to]
إِلَى
तरफ़ उनके जो
those who
ٱلَّذِينَ
तरफ़ उनके जो
were given
أُوتُوا۟
दिए गए
a portion
نَصِيبًا
एक हिस्सा
of
مِّنَ
किताब में से
the Scripture?
ٱلْكِتَٰبِ
किताब में से
They are invited
يُدْعَوْنَ
वो बुलाए जाते हैं
to
إِلَىٰ
तरफ़
(the) Book
كِتَٰبِ
अल्लाह की किताब के
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की किताब के
that (it should) arbitrate
لِيَحْكُمَ
ताकि वो फ़ैसला करें
between them
بَيْنَهُمْ
दर्मियान उनके
then
ثُمَّ
फिर
turns away
يَتَوَلَّىٰ
मुँह फेर लेता है
a party
فَرِيقٌ
एक गिरोह
of them
مِّنْهُمْ
उनमें से
and they (are)
وَهُم
और वो
those who are averse
مُّعْرِضُونَ
ऐराज़ करने वाले हैं

Alam tara ila allatheena ootoo naseeban mina alkitabi yud'awna ila kitabi Allahi liyahkuma baynahum thumma yatawalla fareequn minhum wahum mu'ridoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या तुमने उन लोगों को नहीं देखा जिन्हें ईश-ग्रंथ का एक हिस्सा प्रदान हुआ। उन्हें अल्लाह की किताब की ओर बुलाया जाता है कि वह उनके बीच निर्णय करे, फिर भी उनका एक गिरोह (उसकी) उपेक्षा करते हुए मुँह फेर लेता है?

English Sahih:

Do you not consider, [O Muhammad], those who were given a portion of the Scripture? They are invited to the Scripture of Allah that it should arbitrate between them; then a party of them turns away, and they are refusing.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

(ऐ रसूल) क्या तुमने (उलमाए यहूद) के हाल पर नज़र नहीं की जिनको किताब (तौरेत) का एक हिस्सा दिया गया था (अब) उनको किताबे ख़ुदा की तरफ़ बुलाया जाता है ताकि वही (किताब) उनके झगड़ें का फैसला कर दे इस पर भी उनमें का एक गिरोह मुंह फेर लेता है और यही लोग रूगरदानी (मुँह फेरने) करने वाले हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

(हे नबी!) क्या आपने उनकी[1] दशा नहीं देखी, जिन्हें पुस्तक का कुछ भाग दिया गया? वे अल्लाह की पुस्तक की ओर बुलाये जा रहे हैं, ताकि उनके बीच निर्णय[2] करे, तो उनका एक गिरोह मुँह फेर रहा है और वे हैं ही मुँह फेरने वाले।