Skip to main content

अर-रूम आयत ३० | Ar-Rum 30:30

So set
فَأَقِمْ
पस क़ायम रखिए
your face
وَجْهَكَ
अपने चेहरे को
to the religion
لِلدِّينِ
दीन के लिए
upright
حَنِيفًاۚ
यक्सू हो कर
Nature
فِطْرَتَ
फ़ितरत
(made by) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
(upon) which
ٱلَّتِى
वो जो
He has created
فَطَرَ
उसने पैदा किया
mankind
ٱلنَّاسَ
लोगों को
[on it]
عَلَيْهَاۚ
उस पर
No
لَا
नहीं (जाइज़) कोई तब्दीली
change
تَبْدِيلَ
नहीं (जाइज़) कोई तब्दीली
(should there be) in the creation
لِخَلْقِ
ख़ल्क़ के लिए
(of) Allah
ٱللَّهِۚ
अल्लाह की
That
ذَٰلِكَ
यही है
(is) the religion
ٱلدِّينُ
दीन
the correct
ٱلْقَيِّمُ
दुरुस्त
but
وَلَٰكِنَّ
और लेकिन
most
أَكْثَرَ
अक्सर
men
ٱلنَّاسِ
लोग
(do) not
لَا
नहीं वो इल्म रखते
know
يَعْلَمُونَ
नहीं वो इल्म रखते

Faaqim wajhaka lilddeeni haneefan fitrata Allahi allatee fatara alnnasa 'alayha la tabdeela likhalqi Allahi thalika alddeenu alqayyimu walakinna akthara alnnasi la ya'lamoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

अतः एक ओर का होकर अपने रुख़ को 'दीन' (धर्म) की ओर जमा दो, अल्लाह की उस प्रकृति का अनुसरण करो जिसपर उसने लोगों को पैदा किया। अल्लाह की बनाई हुई संरचना बदली नहीं जा सकती। यही सीधा और ठीक धर्म है, किन्तु अधिकतर लोग जानते नहीं।

English Sahih:

So direct your face [i.e., self] toward the religion, inclining to truth. [Adhere to] the fitrah of Allah upon which He has created [all] people. No change should there be in the creation of Allah. That is the correct religion, but most of the people do not know.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

तो (ऐ रसूल) तुम बातिल से कतरा के अपना रुख़ दीन की तरफ किए रहो यही ख़ुदा की बनावट है जिस पर उसने लोगों को पैदा किया है ख़ुदा की (दुरुस्त की हुई) बनावट में तग़य्युर तबद्दुल (उलट फेर) नहीं हो सकता यही मज़बूत और (बिल्कुल सीधा) दीन है मगर बहुत से लोग नहीं जानते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

तो (हे नबी!) आप सीधा रखें अपना मुख इस धर्म की दिशा में, एक ओर होकर, उस स्वभाव पर, पैदा किया है अल्लाह ने मनुष्यों को जिस[1] पर। बदलना नहीं है अल्लाह के धर्म को, यही स्वभाविक धर्म है, किन्तु अधिक्तर लोग नहीं[2] जानते।