Skip to main content

लुकमान आयत ३१ | Luqman 31:31

Do not
أَلَمْ
क्या नहीं
you see
تَرَ
आपने देखा
that
أَنَّ
बेशक
the ships
ٱلْفُلْكَ
कश्तियाँ
sail
تَجْرِى
चलती हैं
through
فِى
समुन्दर में
the sea
ٱلْبَحْرِ
समुन्दर में
by (the) Grace
بِنِعْمَتِ
साथ नेअमत के
(of) Allah
ٱللَّهِ
अल्लाह की
that He may show you
لِيُرِيَكُم
ताकि वो दिखाए तुम्हें
of
مِّنْ
अपनी निशानियों में से
His Signs?
ءَايَٰتِهِۦٓۚ
अपनी निशानियों में से
Indeed
إِنَّ
यक़ीनन
in
فِى
उसमें
that
ذَٰلِكَ
उसमें
surely (are) Signs
لَءَايَٰتٍ
अलबत्ता निशानियाँ हैं
for everyone
لِّكُلِّ
वास्ते हर
(who is) patient
صَبَّارٍ
बहुत सब्र करने वाले
grateful
شَكُورٍ
बहुत शुक्र गुज़ार के

Alam tara anna alfulka tajree fee albahri bini'mati Allahi liyuriyakum min ayatihi inna fee thalika laayatin likulli sabbarin shakoorin

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

क्या तुमने देखा नहीं कि नौका समुद्र में अल्लाह के अनुग्रह से चलती है, ताकि वह तुम्हें अपनी कुछ निशानियाँ दिखाए। निस्संदेह इसमें प्रत्येक धैर्यवान, कृतज्ञ के लिए निशानियाँ है

English Sahih:

Do you not see that ships sail through the sea by the favor of Allah that He may show you of His signs? Indeed in that are signs for everyone patient and grateful.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

क्या तूने इस पर भी ग़ौर नहीं किया कि ख़ुदा ही के फज़ल से कश्ती दरिया में बहती चलती रहती है ताकि (लकड़ी में ये क़ूवत देकर) तुम लोगों को अपनी (कुदरत की) बाज़ निशानियाँ दिखा दे बेशक उस में भी तमाम सब्र व शुक्र करने वाले (बन्दों) के लिए (कुदरत ख़ुदा की) बहुत सी निशानियाँ दिखा दे बेशक इसमें भी तमाम सब्र व शुक्र करने वाले (बन्दों) के लिए (क़ुदरते ख़ुदा की) बहुत सी निशानियाँ हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

क्या तुमने नहीं देखा कि नाव चलती है सागर में अल्लाह के अनुग्रह के साथ, ताकि वे तुम्हें अपनी निशानियाँ दिखाये। वास्तव में, इसमें कई निशानियाँ हैं प्रत्येक सहनशील, कृतज्ञ के लिए।