Skip to main content

अस-सजदा आयत १२ | As-Sajda 32:12

And if
وَلَوْ
और काश
you (could) see
تَرَىٰٓ
आप देखें
when
إِذِ
जब
the criminals
ٱلْمُجْرِمُونَ
मुजरिम
(will) hang
نَاكِسُوا۟
झुकाए हुए होंगे
their heads
رُءُوسِهِمْ
अपने सरों को
before
عِندَ
अपने रब के पास (कहेंगे)
their Lord
رَبِّهِمْ
अपने रब के पास (कहेंगे)
"Our Lord
رَبَّنَآ
ऐ हमारे रब
we have seen
أَبْصَرْنَا
देख लिया हमनें
and we have heard
وَسَمِعْنَا
और सुन लिया हमनें
so return us
فَٱرْجِعْنَا
पस लौटा दे हमें
we will do
نَعْمَلْ
हम अमल करेंगे
righteous (deeds)
صَٰلِحًا
नेक
Indeed we
إِنَّا
बेशक हम
(are now) certain"
مُوقِنُونَ
यक़ीन करने वाले हैं

Walaw tara ithi almujrimoona nakisoo ruoosihim 'inda rabbihim rabbana absarna wasami'na faarji'na na'mal salihan inna mooqinoona

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और यदि कहीं तुम देखते जब वे अपराधी अपने रब के सामने अपने सिर झुकाए होंगे कि 'हमारे रब! हमने देख लिया और सुन लिया। अब हमें वापस भेज दे, ताकि हम अच्छे कर्म करें। निस्संदेह अब हमें विश्वास हो गया।'

English Sahih:

If you could but see when the criminals are hanging their heads before their Lord, [saying], "Our Lord, we have seen and heard, so return us [to the world]; we will work righteousness. Indeed, we are [now] certain."

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और (ऐ रसूल) तुम को बहुत अफसोस होगा अगर तुम मुजरिमों को देखोगे कि वह (हिसाब के वक्त) अपने परवरदिगार की बारगाह में अपने सर झुकाए खड़े हैं और(अर्ज़ कर रहे हैं) परवरदिगार हमने (अच्छी तरह देखा और सुन लिया तू हमें दुनिया में एक दफा फिर लौटा दे कि हम नेक काम करें

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और यदि आप देखते, जब अपराधी अपने सिर झुकाये होंगे अपने पालनहार के समक्ष, (वे कह रहे होंगेः) हे हमारे पालनहार! हमने देख लिया और सुन लिया, अतः, हमें फेर दे (संसार में) हम सदाचार करेंगे। हमें पूरा विश्वास हो गया।