Skip to main content

अल-अह्जाब आयत १३ | Al-Ahzab 33:13

And when
وَإِذْ
और जब
said
قَالَت
कहा
a party
طَّآئِفَةٌ
एक गिरोह ने
of them
مِّنْهُمْ
उनमें से
"O People
يَٰٓأَهْلَ
ऐ अहले
(of) Yathrib!
يَثْرِبَ
यसरब
No
لَا
नहीं कोई जगह ठहरने की
stand
مُقَامَ
नहीं कोई जगह ठहरने की
for you
لَكُمْ
तुम्हारे लिए
so return"
فَٱرْجِعُوا۟ۚ
पस लौट चलो
And asked permission
وَيَسْتَـْٔذِنُ
और इजाज़त माँग रहा था
a group
فَرِيقٌ
एक गिरोह
of them
مِّنْهُمُ
उनमें से
(from) the Prophet
ٱلنَّبِىَّ
नबी से
saying
يَقُولُونَ
वो कह रहे थे
"Indeed
إِنَّ
बेशक
our houses
بُيُوتَنَا
हमारे घर तो
(are) exposed"
عَوْرَةٌ
ग़ैर महफ़ूज़ हैं
and not
وَمَا
हालाँकि नहीं थे
they
هِىَ
वो
(were) exposed
بِعَوْرَةٍۖ
ग़ैर महफ़ूज़
Not
إِن
नहीं
they wished
يُرِيدُونَ
वो चाहते थे
but
إِلَّا
मगर
to flee
فِرَارًا
फ़रार होना

Waith qalat taifatun minhum ya ahla yathriba la muqama lakum fairji'oo wayastathinu fareequn minhumu alnnabiyya yaqooloona inna buyootana 'awratun wama hiya bi'awratin in yureedoona illa firaran

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

और जबकि उनमें से एक गिरोह ने कहा, 'ऐ यसरिबवालो, तुम्हारे लिए ठहरने का कोई मौक़ा नहीं। अतः लौट चलो।' और उनका एक गिरोह नबी से यह कहकर (वापस जाने की) अनुमति चाह रहा था कि 'हमारे घर असुरक्षित है।' यद्यपि वे असुरक्षित न थे। वे तो बस भागना चाहते थे

English Sahih:

And when a faction of them said, "O people of Yathrib, there is no stability for you [here], so return [home]." And a party of them asked permission of the Prophet, saying, "Indeed, our houses are exposed [i.e., unprotected]," while they were not exposed. They did not intend except to flee.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

और अब उनमें का एक गिरोह कहने लगा था कि ऐ मदीने वालों अब (दुश्मन के मुक़ाबलें में ) तुम्हारे कहीं ठिकाना नहीं तो (बेहतर है कि अब भी) पलट चलो और उनमें से कुछ लोग रसूल से (घर लौट जाने की) इजाज़त माँगने लगे थे कि हमारे घर (मर्दों से) बिल्कुल ख़ाली (गैर महफूज़) पड़े हुए हैं - हालाँकि वह ख़ाली (ग़ैर महफूज़) न थे (बल्कि) वह लोग तो (इसी बहाने से) बस भागना चाहते हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

और जब कहा उनके एक गिरोह नेः हे यस्रिब[1] वालो! कोई स्थान नहीं तुम्हारे लिए, अतः, लौट[2] चलो तथा अनुमति माँगने लगा उनमें से एक गिरोह नबी से, कहने लगाः हमारे घर खाली हैं, जबकि वह खाली न थे। वे तो बस निश्चय कर रहे थे भाग जाने का।