Skip to main content
They worked
يَعْمَلُونَ
वो बनाते
for him
لَهُۥ
उसके लिए
what
مَا
जो
he willed
يَشَآءُ
वो चाहता
of
مِن
बड़ी-बड़ी इमारतें
elevated chambers
مَّحَٰرِيبَ
बड़ी-बड़ी इमारतें
and statues
وَتَمَٰثِيلَ
और मुजस्समे
and bowls
وَجِفَانٍ
और लगन
like reservoirs
كَٱلْجَوَابِ
हौज़ की तरह
and cooking-pots
وَقُدُورٍ
और देगें
fixed
رَّاسِيَٰتٍۚ
गड़ी हुईं
"Work
ٱعْمَلُوٓا۟
अमल करो
O family
ءَالَ
ऐ आले दाऊद
(of) Dawood!
دَاوُۥدَ
ऐ आले दाऊद
(in) gratitude"
شُكْرًاۚ
शुक्र करने के लिए
But few
وَقَلِيلٌ
और कम ही हैं
of
مِّنْ
मेरे बन्दों में से
My slaves
عِبَادِىَ
मेरे बन्दों में से
(are) grateful
ٱلشَّكُورُ
शुक्र गुज़ार

Ya'maloona lahu ma yashao min mahareeba watamatheela wajifanin kaaljawabi waqudoorin rasiyatin i'maloo ala dawooda shukran waqaleelun min 'ibadiya alshshakooru

Muhammad Faruq Khan Sultanpuri & Muhammad Ahmed:

वे उसके लिए बनाते, जो कुछ वह चाहता - बड़े-बड़े भवन, प्रतिमाएँ, बड़े हौज़ जैसे थाल और जमी रहनेवाली देगें - 'ऐ दाऊद के लोगों! कर्म करो, कृतज्ञता दिखाने रूप में। मेरे बन्दों में कृतज्ञ थोड़े ही हैं।'

English Sahih:

They made for him what he willed of elevated chambers, statues, bowls like reservoirs, and stationary kettles. [We said], "Work, O family of David, in gratitude." And few of My servants are grateful.

1 | Suhel Farooq Khan/Saifur Rahman Nadwi

ग़रज़ सुलेमान को जो बनवाना मंज़ूर होता ये जिन्नात उनके लिए बनाते थे (जैसे) मस्जिदें, महल, क़िले और (फरिश्ते अम्बिया की) तस्वीरें और हौज़ों के बराबर प्याले और (एक जगह) गड़ी हुई (बड़ी बड़ी) देग़ें (कि एक हज़ार आदमी का खाना पक सके) ऐ दाऊद की औलाद शुक्र करते रहो और मेरे बन्दों में से शुक्र करने वाले (बन्दे) थोड़े से हैं

2 | Azizul-Haqq Al-Umary

वह बनाते थे उसके लिए, जो वह चाहता था; भवन (मस्जिदें), चित्र, बड़े लगन जलाशयों (तालाबों) के समान तथा भारी देगें, जो हिल न सकें। हे दावूद के परिजनो! कर्म करो कृतज्ञ होकर और मेरे भक्तों में थोड़े ही कृतज्ञ होते हैं।